आबिद अली ने बताया, आखिर क्यों उन्हें देखकर हैरान रह गए थे डॉक्टर्स? - क्रिकट्रैकर हिंदी

आबिद अली ने बताया, आखिर क्यों उन्हें देखकर हैरान रह गए थे डॉक्टर्स?

टीम के फिजियो और डॉक्टर असद ने वहां मेरे पैड उतारे और मुझे अस्पताल ले गए- आबिद अली

Abid Ali. (Photo by MUNIR UZ ZAMAN/AFP via Getty Images)
Abid Ali. (Photo by MUNIR UZ ZAMAN/AFP via Getty Images)

पाकिस्तान के टेस्ट खिलाड़ी आबिद अली इस साल क्रिकेट में अपनी सफल वापसी की उम्मीद कर रहे हैं क्योंकि उन्होंने दिसंबर 2021 में एंजियोप्लास्टी के बाद अपना रिहैब शुरू कर दिया है। आबिद अली ने हाल ही में पीसीबी मेडिकल टीम की देखरेख में पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के नेशनल हाई-परफॉर्मेस सेंटर में अपना रिहैबिलिटेशन शुरू किया।

कायदे आजम ट्रॉफी के आखिरी दौर में खैबर पख्तूनख्वा के खिलाफ लिए बल्लेबाजी करते हुए उन्होंने सीने में दर्द की शिकायत की जिसके बाद अली को एक्यूट कोरोनरी सिंड्रोम के मामले का पता चला था। दिसंबर 2021 में उनकी सफल एंजियोप्लास्टी हुई।

आबिद अली ने बताया उस दिन मैदान पर उनके साथ क्या हुआ था?

दाएं हाथ के सलामी बल्लेबाज ने पीसीबी के साथ एक साक्षात्कार में अपनी घटना के बारे में बातचीत की। उन्होंने कहा, “जब मैं क्रीज पर बल्लेबाजी कर रहा था, उस दौरान मुझे सीने में दर्द उठा और शरीर में अजीब सी बेचैनी होने लगी थी। जब दर्द तेज हो गया, तो मैंने दौड़ लगाना शुरू की और बल्लेबाजी कर रहे साथी अजहर अली से सलाह ली। इसके बाद मैं अंपायर की अनुमति के बाद मैदान से बाहर निकला और ड्रेसिंग रूम में चला गया।”

अली को बाद में एक अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उसकी ईसीजी रिपोर्ट ने सुझाव दिया कि उसके दिल का एक नस जाम हो गया था। अली ने कहा कि “ग्राउंड से वापस आते समय, मुझे और अधिक बेचैनी महसूस हुई जब मैं बॉउंड्री के पास पंहुचा तो मुझे उल्टी और चक्कर आने लगा। टीम फिजियो और डॉक्टर असद मेरी ओर दौड़े। उन्होंने मेरे पैड उतार दिए और मुझे आपातकालीन स्थिति में अस्पताल ले गए।

मैं सोचा कि यह सिर्फ सामान्य गैस या मांसपेशियों में दर्द है। डॉक्टरों ने ईसीजी किया, जो ठीक नहीं निकला। डॉक्टरों ने मुझे बताया कि मेरे दिल का एक वाल्व अवरुद्ध हो गया था और उन्हें दो स्टेंट लगाने होंगे।” अली ने साथ में यह भी खुलासा किया कि डॉक्टर सदमे में थे क्योंकि उनका दिल केवल 30 प्रतिशत काम कर रहा था, जबकि एक सामान्य व्यक्ति का दिल आमतौर पर 55 प्रतिशत काम करता है।