एडम गिलक्रिस्ट ने इस ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी की प्लेइंग इलेवन में जगह पक्की होने का किया दावा - क्रिकट्रैकर हिंदी

एडम गिलक्रिस्ट ने इस ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी की प्लेइंग इलेवन में जगह पक्की होने का किया दावा

टी-20 वर्ल्ड कप में दक्षिण अफ्रीका अपना पहला मुकाबला 23 अक्टूबर को अबु धाबी में खेलेगी।

Josh Hazlewood and Adam Gilchrist (Photo Source: IPL/BCCI and Getty Images)
Josh Hazlewood and Adam Gilchrist (Photo Source: IPL/BCCI and Getty Images)

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व विकेटकीपर-बल्लेबाज एडम गिलक्रिस्ट का मानना है कि तेज गेंदबाज जोश हेजलवुड ने यूएई और ओमान में होने वाले टी-20 वर्ल्ड कप के लिए अपने टीम की प्लेइंग इलेवन में अपनी जगह पक्की कर ली है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि अब देखना दिलचस्प होगा कि टीम मैनेजमेंट उन्हें प्लेइंग इलेवन में कैसे फिट करती है, साथ ही उन्होंने ग्लेन मैक्सवेल के शानदार फार्म की भी चर्चा की।

मैक्सवेल की तरह ही जोश हेजलवुड ने भी यूएई में खेले गए IPL के दूसरे फेज में जबरदस्त प्रदर्शन किया। बायो-बबल की थकान की वजह से पहला फेज छोड़ने वाले हेजलवुड ने दूसरे फेज में 9 मुकाबले में 11 विकेट झटकने में कामयाब रहे, जिसमें उनका इकॉनमी भी 8.37 का रहा। फाइनल में भी उन्होंने अहम मौकों पर दो विकेट चटकाकर CSK को चौथा खिताब जिताने में मदद की।

हेजलवुड को लेकर गिलक्रिस्ट ने क्या कहा ?

उनके इस प्रदर्शन को देखते हुए गिलक्रिस्ट ने cricket.com.au. से बातचीत करते हुए कहा कि, “हेजलवुड वह खिलाड़ी है जिसने अब टीम में अपनी जगह पक्की करने की मजबूत दावेदारी पेश की है। अब देखना दिलचस्प होगा कि टीम उनको कैसे फिट करती है और किसे बाहर करती है क्योंकि वहां के हालात को देखते हुए लगता है कि स्पिनरों को भी सर्वोपरि होने की जरूरत है।”

वहीं, एडम गिलक्रिस्ट ने आईपीएल 2021 में ग्लेन मैक्सवेल के प्रदर्शन के बाद उनकी तारीफ की। मैक्सवेल ने इस सीजन 15 मैचों में 42.75 की औसत और 144 से अधिक की स्ट्राइक रेट से 513 रन बनाए। गिलक्रिस्ट ने उनकी फॉर्म पर कहा, “उनके पास इस टी-20 वर्ल्ड कप में बड़ी भूमिका होगी। वह उस प्रकार के खिलाड़ी हैं कि जब वो प्रदर्शन करते हैं तो उसको देख सामने वाले टीम के खिलाड़ियों के भी हौसले पस्त हो जाते हैं और वह खेल को काफी दूर लेकर चले जाते हैं।”

गिलक्रिस्ट ने आगे कहा कि, “इन सब खिलाड़ियों के साथ हमें एक चीज सीखने की जरूरत है कि कभी-कभी ऐसा दिन आएगा जब उनका बल्ला नहीं चलेगा। इसलिए हमें उनके ऊपर अपेक्षाओं का बोझ नहीं डालना है। ऐसा नहीं है कि मैक्सवेल नहीं चलेंगे तो ऑस्ट्रेलिया हार जाएगा, टीम के पास और भी कई अच्छे खिलाड़ी हैं।”