'खिलाड़ियों को खेलना होगा फर्स्ट क्लास क्रिकेट'- लॉर्ड्स टेस्ट में मिले हार के बाद बोले एलिस्टेयर कुक - क्रिकट्रैकर हिंदी

‘खिलाड़ियों को खेलना होगा फर्स्ट क्लास क्रिकेट’- लॉर्ड्स टेस्ट में मिले हार के बाद बोले एलिस्टेयर कुक

व्हाइट बॉल क्रिकेट खेलने की वजह से इंग्लैंड को टेस्ट की तैयारी करने का मौका नहीं मिला।

England vs South Africa first Test. (Photo Source: Twitter/England Cricket)
England vs South Africa first Test. (Photo Source: Twitter/England Cricket)

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान एलिस्टेयर कुक ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहला टेस्ट मैच हारने के बाद इंग्लिश टीम की योजना पर सवाल उठाया है। इंग्लैंड की टीम पिछले काफी समय से लिमिटेड ओवर्स क्रिकेट खेलने में व्यस्त थी  जिस वजह से उन्हें दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट सीरीज से पहले तैयारी करने का मौका नहीं मिल पाया।

इस बीच, डीन एल्गर की अगुवाई वाली टीम ने इंग्लैंड लायंस की मजबूत टीम के खिलाफ अभ्यास मैच खेला और इसे मैच में खेलने से दक्षिण अफ्रीकी टीम को इसका फायदा हुआ। भले ही टीम को एक पारी और 56 रनों से हार का सामना करना पड़ा, लेकिन वहां उन्होंने खुद को परिस्थिति के अनुकूल बनाया और सीरीज के पहले टेस्ट में एक बड़ी जीत दर्ज की।

इस बीच इंग्लैंड के पूर्व कप्तान एलिस्टेयर कुक ने टेस्ट सीरीज से पहले इंग्लैंड की तैयारियों पर सवाल उठाया है। बीबीसी से बात करते हुए, कुक ने कहा कि चीजों को बदलने की जरूरत है और खिलाड़ियों को रेड-बॉल क्रिकेट के संपर्क में रहने के लिए फर्स्ट क्लास क्रिकेट खेलने की जरूरत है।

टेस्ट सीरीज के लिए इंग्लैंड की तैयारियों पर एलिस्टेयर कुक ने उठाया सवाल

37 वर्षीय कुक ने कहा कि, “हम हमेशा कहते हैं कि पहले मैच में इंग्लैंड को आमतौर पर टेस्ट सीरीज में ऐसा फायदा होता है। हम खेल की स्ट्रक्चर के बारे में बहुत बात कर रहे हैं, हम बात कर रहे हैं कि क्रिकेट कब खेला जाना चाहिए। इस बात का कोई सेंस नहीं है कि टेस्ट सीरीज होने पर किसी के खेलने के लिए कोई प्रथम श्रेणी क्रिकेट नहीं चल रहा होता है।”

बैजबॉल फिलॉस्फी अपनाने के बाद यह पहली बार हुआ है जब इंग्लैंड की किसी टेस्ट मैच में हार का सामना करना पड़ा है। कुक का मानना ​​है कि उन्हें किसी भी तरह का बहाना नहीं बनाना चाहिए और किसी भी बड़ी टेस्ट सीरीज से पहले प्रथम श्रेणी मैचों पर अधिक ध्यान देना चाहिए।

उन्होंने कहा कि, “इसे बदलना होगा। इसका कोई बहाना नहीं है। इसे बदलना ही होगा। वहां प्रथम श्रेणी मैच खेलने का मौका हो सकता है, ताकि खिलाड़ी मैदान से बाहर जा सकें और मैदान में उतर सकें।”