एलिस्टेयर कुक में आई बदले की भावना, जो रूट के चोटिल होने पर कहा- 'जैसा काम करोगे वैसा ही फल मिलेगा' - क्रिकट्रैकर हिंदी

एलिस्टेयर कुक में आई बदले की भावना, जो रूट के चोटिल होने पर कहा- ‘जैसा काम करोगे वैसा ही फल मिलेगा’

एलिस्टेयर कुक ने मजाक में यह भी कहा कि कमर में चोट लगने के बाद भी उनके दो बच्चे हैं।

Alastair Cook and Joe Root. (Photo Source: Twitter)
Alastair Cook and Joe Root. (Photo Source: Twitter)

इंग्लैंड के कप्तान जो रूट दूसरे एशेज टेस्ट मैच के चौथे दिन खेल के अंतिम क्षणों के दौरान ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज मिशेल स्टार्क की घातक गेंद से चोटिल हो गए। चोटिल होने के बाद रूट तुरंत ही मैदान पर गिर गए थे। रूट पहले से ही उसी चोट से पीड़ित थे क्योंकि उन्हें चौथे दिन भी खेल शुरू होने से पहले नेट्स में अभ्यास करते समय कमर में चोट लगी थी।

इसी बीच इंग्लैंड के पूर्व टेस्ट कप्तान एलिस्टेयर कुक ने रूट की कमर में चोट लगने पर प्रतिक्रिया दी है। साल 2015 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एशेज टेस्ट मैच के दौरान स्लिप कॉर्डन में फील्डिंग करते समय कुक की कमर के निचले भाग में चोट लग गई थी और रूट, जो उनके बगल में फील्डिंग कर रहे थे, कुक को देखकर रूट फूट-फूट कर हंसने लगे थे। और, कुक ने कहा कि ‘जैसा काम करोगे वैसा ही फल मिलेगा।’

जो रूट की चोट पर पूर्व कप्तान एलिस्टेयर कुक ने दी यह प्रतिक्रिया

इंग्लैंड के पूर्व महान बल्लेबाज ने मजाक में यह भी कहा कि वह ठीक हैं, क्योंकि उस झटके के बाद उनके दो बच्चे हैं। कुक ने द वेस्ट के हवाले से कहा कि, ‘जैसा काम करोगे वैसा ही फल मिलेगा।’ लेकिन मैं ठीक था। तब से मेरे दो बच्चे हैं। मुझे नहीं पता कि रूट इस समय कैसे हैं।”

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर ट्रैविस हेड ने खुलासा किया कि रूट की कमर में चोट लगने के बाद, ऑस्ट्रेलियाई टीम को इंग्लैंड के कप्तान को अकेले छोड़ देने के लिए कहा गया था। हेड ने यह भी कहा कि रूट स्टार्क के साथ सहज ,महसूस नहीं कर रहे थे। हमें उसे कुछ जगह देने के लिए कहा गया, इसलिए हम दूर रहे।

अंत में ट्रेविस हेड ने यह भी कहा कि, “जाहिर है कि वह चौथे दिन जिस लाइन लेंथ पर गेंदबाजी कर रहे थे वह कहीं से भी ठीक नहीं था। रूट को जो चोट लगी वह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण था”