अर्जुन रणातुंगा के भारतीय टीम को लेकर दिए बयान पर अब अरविंद डी सिल्वा ने कही बड़ी बात - क्रिकट्रैकर हिंदी

अर्जुन रणातुंगा के भारतीय टीम को लेकर दिए बयान पर अब अरविंद डी सिल्वा ने कही बड़ी बात

अर्जुन रणातुंगा के साथ लंबे समय तक खेलने वाले अरविंद डी सिल्वा ने उनके भारतीय टीम को लेकर दिए विवादित बयान पर पलटवार किया है।

Arjuna Ranatunga and Aravinda de Silva. (Photo Source: Getty Images)
Arjuna Ranatunga and Aravinda de Silva. (Photo Source: Getty Images)

श्रीलंका दौरे पर लिमिटेड ओवर्स की सीरीज शिखर धवन की कप्तानी में खेलने गई भारतीय टीम को लेकर पूर्व श्रीलंकाई कप्तान अर्जुन रणातुंगा ने अपने एक बयान में उसे दूसरे दर्जे की टीम बता दिया। जिसपर उन्हें काफी आलोचना का भी शिकार होना पड़ा और अब उन्हीं के साथी खिलाड़ी पूर्व श्रीलंकाई कप्तान अरविंद डी सिल्वा ने भी इस बयान को लेकर आलोचना की है। साल 1996 में वर्ल्ड कप जीतने वाली श्रीलंका टीम के सदस्य डी सिल्वा अपने पूर्व कप्तान के बयान से खुद को पूरी तरह दूर रखा है।

कुछ दिन पहले अर्जुन रणातुंगा ने दिए एक बयान में कहा था कि श्रीलंका क्रिकेट को इस दौरे पर आने वाली भारतीय टीम के साथ सीरीज नहीं खेलनी चाहिए क्योंकि यह एक दूसरे दर्जे की टीम है। उन्होंने कहा कि यह श्रीलंका क्रिकेट का अपमान है। इस बयान के सामने आने के बाद कई पूर्व खिलाड़ियों ने कहा कि यह भारतीय टीम पूरी तरह से अनुभवी है और टीम में मौजूद 14 खिलाड़ी इससे पहले तीनों में से किसी एक फॉर्मेट में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेल चुके हैं।

शिखर धवन, भुवनेश्वर कुमार, युजवेंद्र चहल, हार्दिक पांड्या और कुलदीप यादव पिछले कुछ सालों से भारत की लिमिटेड ओवर्स क्रिकेट टीम के प्रमुख खिलाड़ियों में से एक हैं। वहीं जो खिलाड़ी टीम के लिए टेस्ट फॉर्मेट में ही खेलते हैं वह इंग्लैंड दौरे पर मौजूद हैं ताकि 5 मैचों की सीरीज से पहले वह खुद को तैयार कर सकें।

मुझे लगता भविष्य में भी ऐसा ही देखने को मिलेगा

श्रीलंका क्रिकेट के क्रिकेट समिति के चेयरमैन अरविंद डी सिल्वा ने एक प्रेस वार्ता के दौरान कहा कि ऐसे हालातों में कई क्रिकेट बोर्ड रोटेशन पॉलिसी को काफी तेजी से अपना रहे हैं और मुझे लगता है कि आने वाले भविष्य में हम सभी को यह काफी देखने को मिलेगा।

हम सभी जानते हैं कि भारत के पास कई प्रतिभाशाली खिलाड़ी मौजूद हैं, जिसके चलते आप यह नहीं कह सकते कि यह दूसरे दर्जे की टीम है। यदि आप कोरोना महामारी के कारण मौजूदा हालात को देखें तो उसकी वजह से रोटेशन पॉलिसी को अपनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आने वाले भविष्य में अलग-अलग क्रिकेट दौरों पर विभिन्‍न खिलाड़‍ियों के समूह को भेजना पृथकवास दिशा-निर्देश और बबल थकान के चलते यह एक नियम बन जाएगा क्योंकि बबल-लाइफ खिलाड़‍ियों के लिए बहुत चुनौतीपूर्ण हो चुकी है। यह मानसिक रूप से काफी हावी होता है।

वहीं पूर्व श्रीलंकाई दिग्गज खिलाड़ी ने इस दौरे पर भारतीय टीम के कोच के तौर पर गए राहुल द्रविड़ की भी तारीफ की और यह इशारा भी दिया कि श्रीलंका क्रिकेट भी महेला जयवर्धने को ऐसी ही भूमिका देने पर विचार कर रही है।