एमएस धोनी की सलाह ने पाकिस्तान के खिलाफ 2011 वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल मैच की कहानी पलट दी थी; जानिए हरभजन सिंह से कैसे - क्रिकट्रैकर हिंदी

एमएस धोनी की सलाह ने पाकिस्तान के खिलाफ 2011 वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल मैच की कहानी पलट दी थी; जानिए हरभजन सिंह से कैसे

हरभजन सिंह ने 2011 वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में पाकिस्तान के खिलाफ दो विकेट लिए थे।

Harbhajan Singh and MS Dhoni. (Photo Source: INDRANIL MUKHERJEE/AFP via Getty Images)
Harbhajan Singh and MS Dhoni. (Photo Source: INDRANIL MUKHERJEE/AFP via Getty Images)

भारत ने एमएस धोनी की करिश्माई कप्तानी में 28 साल के लंबे इंतजार के बाद साल 2011 में वर्ल्ड कप का खिताब जीता था। भारत ने यह ऐतिहासिक जीत श्रीलंका के खिलाफ दर्शकों से खचाखच भरे वानखेड़े स्टेडियम में हासिल की थी। हालांकि, 2011 वर्ल्ड कप फाइनल टीम इंडिया के अब तक के सबसे यादगार मैचों में से एक है, लेकिन पाकिस्तान के खिलाफ खेला गया सेमीफाइनल भी फाइनल से कम नहीं था, जिसे लेकर हरभजन सिंह ने एक दिलचस्प कहानी का खुलासा किया है।

हरभजन सिंह ने एमएस धोनी से जुड़ी एक अनकही कहानी का खुलासा किया है। उन्होंने बताया कि 33वें ओवर की समाप्ति के बाद ड्रिंक्स ब्रेक के दौरान उन्होंने कप्तान धोनी के साथ बातचीत की, जब मिस्बाह-उल-हक और उमर अकमल पाकिस्तान के 261 रनों के लक्ष्य का पीछा करने के दौरान खतरनाक नजर आ रहे थे।

जब एमएस धोनी की सलाह ने हरभजन सिंह को दिलाया था विकेट

एमएस धोनी ने अनुभवी स्पिनर को उमर अकमल को विकेट के आसपास गेंदबाजी करने की सलाह दी, और फिर ड्रिंक्स ब्रेक के बाद, हरभजन ने पहली ही गेंद पर पाकिस्तानी बल्लेबाज को आउट किया। उस विकेट ने भारत के लिए जीत के द्वार खोल दिए, क्योंकि पाकिस्तान को यह मैच अंत में 29 रनों से हारना पड़ा।

हरभजन सिंह ने स्टार स्पोर्ट्स के ‘दिल से इंडिया’ शो पर बात करते हुए कहा: “यह उन मैचों में से एक था, जहां मुझे लगा कि मैं थोड़ा सुन्न पड़ रहा हूं। मैंने पांच ओवर डाले थे और लगभग 26-27 रन गंवा दिए थे। जिसके बाद ड्रिंक ब्रेक हुआ, और एमएस धोनी ने मुझसे कहा, ‘भज्जू पा, आप विकेट के आसपास गेंद डालोगे’।

उमर अच्छा खेल रहे थे और मिस्बाह भी, और वे रन बना रहे थे और उनके बीच साझेदारी खतरनाक होती जा रही थी। फिर मैं गेंदबाजी करने आया, और मैंने भगवान को याद किया और सिर्फ जीत के लिए प्रार्थना की। और भगवान ने मेरी सुन ली, क्योंकि मैंने पहली ही गेंद पर विकेट के आसपास गेंदबाजी करते हुए उमर अकमल का विकेट ले लिया। वह पूरी तरह से गेंद से चूक गए, और हम मैच जीत गए।”