लॉर्ड्स में दादा के बीमार पड़ने के बाद काइल वेरेन को बदलनी पड़ी अपनी बल्लेबाजी स्थिति - क्रिकट्रैकर हिंदी

लॉर्ड्स में दादा के बीमार पड़ने के बाद काइल वेरेन को बदलनी पड़ी अपनी बल्लेबाजी स्थिति

दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड के बीच दूसरा टेस्ट मैच 25 अगस्त से मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड क्रिकेट ग्राउंड में खेला जाएगा।

Kyle Verreynne. (Photo Source: Getty Images)
Kyle Verreynne. (Photo Source: Getty Images)

दक्षिण अफ्रीका के विकेटकीपर-बल्लेबाज काइल वेरेन ने इंग्लैंड के खिलाफ लॉर्ड्स में खेले गए पहले टेस्ट मैच में अपनी निर्धारित बल्लेबाजी स्थिति से एक स्थान नीचे बल्लेबाजी की, लेकिन वह केवल 11 रनों का योगदान दें पाए। हालांकि, दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट टीम ने यह मैच एक पारी और 12 रनों से जीतकर इंग्लैंड के खिलाफ जारी तीन मैचों की टेस्ट सीरीज में 1-0 से बढ़त हासिल कर ली है।

दरअसल, काइल वेरेन के दादा लॉर्ड्स में इंग्लैंड बनाम दक्षिण अफ्रीका टेस्ट मैच का आनंद लेने पहुंचे थे, जिनका स्वास्थ्य अचानक स्टैंड में ही बिगड़ गया, जिसके चलते विकेटकीपर-बल्लेबाज को अपनी निर्धारित बल्लेबाजी स्थिति से एक स्थान नीचे बल्लेबाजी करनी पड़ी।

काइल वेरेन के दादा को लंदन के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया

दाएं-हाथ के बल्लेबाज को मूल रूप से छठे नंबर पर बल्लेबाजी करने के लिए आना था, लेकिन उनके उनके दादा के स्वास्थ्य के चलते तेज गेंदबाज मार्को जेनसन उनकी जगह क्रीज पर आए। हालांकि, रस्सी वैन डेर डूसन केवल 12 गेंदे ही झेल पाए और काइल वेरेन को बल्लेबाजी करने आना पड़ा।

इस बीच, पैरामेडिक्स को तुरंत एड्रिच स्टैंड में बुलाया गया, जहां काइल वेरेन के दादा बैठे हुए थे, और फिर उन्हें लंदन के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उनका इलाज चल रहा है। हालांकि, क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका (सीएसए) ने इस मामले पर कोई भी प्रतिक्रिया नहीं दी है।

आपको बता दें, दक्षिण अफ्रीकी विकेटकीपर-बल्लेबाज पहले टेस्ट में केवल 11 रन ही बना पाए, और इंग्लैंड के सीनियर तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड को लॉर्ड्स में अपने 100 टेस्ट विकेट पूरे करने अपना विकेट थमा बैठे। उन्होंने अपनी पारी में केवल एक चौका लगाया, और स्टुअर्ट ब्रॉड की गेंद पर जैक क्रॉली को अपना कैच थमा दिया।

दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड के बीच दूसरा टेस्ट मैच 25 अगस्त से मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड क्रिकेट ग्राउंड में खेला जाएगा, और मेजबान टीम पहले टेस्ट में शर्मनाक हार के बाद जीत की पटरी पर लौटना चाहेगी।