अगर जो रूट जेफ्री बॉयकॉट की ये बात मान लेते हैं तो इंग्लैंड एशेज सीरीज 3-2 से जीत सकता है - क्रिकट्रैकर हिंदी

अगर जो रूट जेफ्री बॉयकॉट की ये बात मान लेते हैं तो इंग्लैंड एशेज सीरीज 3-2 से जीत सकता है

डेविड मलान एशेज 2021-22 में 47 की औसत से 188 रन के साथ इंग्लैंड के लिए टॉप रन-स्कोरर हैं।

Geoffrey Boycott and Joe root
Geoffrey Boycott and Joe root. (Photo Source: Getty Images)

महान बल्लेबाज जेफ्री बॉयकॉट ने कहा कि इंग्लैंड को मौजूदा एशेज में वापसी करने का मौका पाने के लिए अपने सलामी जोड़ी को बदलने पर विचार करना चाहिए। डे-नाइट एडिलेड टेस्ट में 275 रन की करारी हार के बाद इंग्लैंड पांच मैचों की टेस्ट की सीरीज में 0-2 से पीछे हो गई है। इससे पहले, उनकी टीम ब्रिस्बेन टेस्ट भी चार दिनों में नौ विकेट से हार गए थे।

बॉयकॉट का मानना है कि इंग्लैंड को डेविड मलान को बल्लेबाजी की शुरुआत करने का मौका देना चाहिए क्योंकि मौजूदा सलामी बल्लेबाज रोरी बर्न्स और हसीब हमीद पूरी तरह से खराब दिख रहे हैं। बर्न्स और हमीद ने सीरीज में संयुक्त रूप से 109 रन बनाए हैं और उनके नाम एक-एक डक भी दर्ज है।

जेफ्री बॉयकॉट ने जो रूट को दिया जीत का मंत्र

The Telegraph के लिए कॉलम लिखते हुए बॉयकॉट ने कहा कि, “इंग्लैंड को डेविड मलान के साथ पारी की शुरुआत करने पर विचार करना चाहिए। क्रीज के अंदर रहने की उनकी तकनीक, किस गेंद को छोड़ना है और किसे सीधे खेलना है, ये उन्हें आता है। टीम के मनोबल के लिए यह बहुत महत्वपूर्ण है।”

बॉयकॉट ने आगे कहा कि, “बड़े स्कोर को हासिल करने के लिए आपके पास सफल सलामी बल्लेबाज होने चाहिए। अब समय आ गया है कि हम स्वीकार करें कि हमारे बल्लेबाज काफी अच्छे नहीं हैं। दोनों सलामी बल्लेबाज विकेट फेंक रहे हैं। अब ये स्वीकार करने का समय आ गया है कि हमारे बल्लेबाज अच्छे नहीं हैं। दो सलामी बल्लेबाज विकेट दे रहे हैं और ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज उन्हें पाने के लिए कतार में खड़े हैं।”

बायकाट का यह भी मानना था कि इंग्लैंड के कप्तान जो रूट को अपने पसंदीदा नंबर 4 स्थान का त्याग करना पड़ सकता है और टीम के बल्लेबाजी संकट को हल करने के लिए नंबर 3 पर बल्लेबाजी करनी पड़ सकती है। उनका कहना है, “यह आदर्श नहीं है, लेकिन जो रूट को किसी समय तीन पर बल्लेबाजी करनी पड़ सकती है। उसे यह पसंद नहीं है और मैं मानता हूं कि अपने स्टार बल्लेबाज को अपने पसंदीदा नंबर चार स्थान से स्थानांतरित करने के लिए कहना सबसे सही नहीं है। इंग्लैंड को कुछ अलग करना होगा।”