झूलन गोस्वामी का बड़ा बयान, कहा क्रिकेट छोड़ने से पहले पिंक बॉल टेस्ट मैच का अनुभव लेना चाहती हूं - क्रिकट्रैकर हिंदी

झूलन गोस्वामी का बड़ा बयान, कहा क्रिकेट छोड़ने से पहले पिंक बॉल टेस्ट मैच का अनुभव लेना चाहती हूं

भारतीय महिला टीम ऑस्ट्रेलिया के साथ पहली बार पिंक बॉल टेस्ट मैच खेलेगी।

Jhulan Goswami. (Photo by Ashley Allen/Getty Images)
Jhulan Goswami. (Photo by Ashley Allen/Getty Images)

भारतीय महिला टीम इस वक्त ऑस्ट्रेलिया दौरे पर है, जहां दोनों टीमों के बीच वनडे और टी-20 मैचों के अलावा एक पिंक बॉल टेस्ट मैच भी खेला जाएगा। इसी टेस्ट मैच को लेकर टीम इंडिया की तेज गेंदबाज झूलन गोस्वामी ने कहा है कि वो ये ऐतिहासिक टेस्ट मैच खेलने के लिए काफी उत्सुक हैं।

इस दौरे की शुरुआत वनडे सीरीज से हुई, जहां पहले दो मैचों में ऑस्ट्रेलियाई टीम ने बाजी मारी और सीरीज में अजेय बढ़त हासिल की। हालांकि, भारतीय टीम ने आखिरी मैच में जबरदस्त वापसी की और सीरीज को क्लीन स्वीप होने बचा लिया। तीसरे वनडे मैच में भारत के तरह से यस्तिका भाटिया ने 64 रन और शेफाली वर्मा ने 56 रनों की मैच जिताऊ पारी खेली।

झूलन गोस्वामी ने पिंक बॉल टेस्ट मैच को लेकर क्या कहा ?

आखिरी मैच में झूलन गोस्वामी को शानदार गेंदबाजी के लिए प्लेअर ऑफ द मैच का खिताब दिया गया। इस मैच में झूलन ने 10 ओवर में 37 रन देकर तीन विकेट झटके। मैच के खत्म होने के बाद झूलन ने अपनी गेंदबाजी को लेकर खुलकर बात की और साथ में ये भी बताया कि वो पिंक बॉल टेस्ट मैच के लिए कितनी उत्सुक हैं। दोनों टीमों के बीच एक मात्र पिंक बॉल टेस्ट मैच 30 सितंबर से क्वींसलैंड के मैदान पर खेला जाएगा।

उन्होंने कहा कि “मैंने सही जगह गेंद डालने की कोशिश की। मुझे जो भूमिका दी गई है, मैं वही निभाने की कोशिश कर रही हूं। जब गेंद स्विंग और सीम कर रही होती है तो आपको ज्यादा कुछ करने की जरूरत नहीं होती है सिर्फ सही जगह पर गेंद डालने की जरूरत होती है। मैं वास्तव में पिंक बॉल टेस्ट मैच खेलने के लिए काफी उत्सुक हूं। मुझे इसको लेकर कोई अनुभव नहीं है और लेकिन मैं क्रिकेट छोड़ने से पहले इस गेंद से कुछ अनुभव लेना चाहती हूं।”

सीरीज हार को लेकर झूलन ने क्या कहा ?

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज 2-1 से हारने के बाद झूलन गोस्वामी ने इस पर भी अपनी राय रखी। उन्होंने इसको लेकर कहा कि “जब आप दुनिया की टॉप टीम के खिलाफ खेल रहे होते हैं तो आपको हर दिन अपना बेस्ट देना होता है। उनको एक मैच में हराकर अच्छा लगा अगर हम उनको नहीं हराते तो सीरीज 3-0 पर खत्म होता। इस जीत से आने वाले मैचों के लिए हमें कॉन्फिडेंस मिलेगा।”