आखिर क्यों न्यूजीलैंड टीम से रिफंड मांगने की बात कर रहे हैं गौतम गंभीर - क्रिकट्रैकर हिंदी

आखिर क्यों न्यूजीलैंड टीम से रिफंड मांगने की बात कर रहे हैं गौतम गंभीर

न्यूजीलैंड को टी-20 वर्ल्ड कप फाइनल में हार का सामना करना पड़ा था।

New Zealand team and Gautam Gambhir. (Photo Source: Getty Images)
New Zealand team and Gautam Gambhir. (Photo Source: Getty Images)

न्यूजीलैंड ICC टी-20 वर्ल्ड कप 2021 के दौरान लगातार अच्छा प्रदर्शन किया था। सेमीफाइनल में इंग्लैंड के खिलाफ रोमांचक जीत दर्ज करने के बाद वह फाइनल में पहुंचे थे। हालांकि फाइनल में ऑस्ट्रेलिया उनके ऊपर हावी रहा जिस वजह से उन्हें वहां हार का सामना करना पड़ा।

इसी बीच पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर ने न्यूजीलैंड के इस हार पर बड़ा बयान दिया है। टूर्नामेंट के फाइनल में न्यूजीलैंड की हार से गौतम गंभीर स्पष्ट रूप से नाखुश थे। साथ ही उन्होंने इस बात का भी खुलासा किया कि भारत के बाद न्यूजीलैंड उनकी पसंदीदा टीम थी।

टाइम्स ऑफ इंडिया के लिए कॉलम लिखते हुए गंभीर ने कहा कि, “इस टी-20 वर्ल्ड कप में भारत के बाद मेरी सबसे पसंदीदा टीम न्यूजीलैंड थी। जिस तरह से हार के बाद उनकी आलोचना की गई वह मेरे लिए कोई सुखद अनुभव नहीं रहा।”

उन्होंने आगे कहा कि, “कीवी टीम ने 172 रन बनाने के लिए बहुत अच्छी बल्लेबाजी की। अक्सर इस तरह के स्कोर का बचाव करना उतना कठिन नहीं होता है, खासकर न्यूजीलैंड जैसे संतुलित आक्रमण के साथ। लेकिन न्यूजीलैंड टीम वो वही टीम नहीं दिखी जिसने सेमीफाइनल में भारत या इंग्लैंड को हराया था।”

गौतम गंभीर ने न्यूजीलैंड के गेम प्लान की भी आलोचना की

गंभीर का यह भी मानना है कि उनका प्रदर्शन फाइनल के योग्य नहीं था। उन्होंने कहा, “न्यूजीलैंड एक ऐसी टीम है जो सावधानीपूर्वक योजना, स्पष्ट भूमिका, सटीक निष्पादन और बिना किसी धूमधाम के यह सब करती है। अगर मैं न्यूजीलैंड का समर्थक होता, तो मैं अपनी टीम को हर फाइनल में हारते हुए देखकर रिफंड की मांग करता। यह प्रदर्शन फाइनल वाला नहीं था।”

पूर्व खिलाड़ी ने मिचेल मार्श को आउट करने के लिए न्यूजीलैंड के गेम प्लान की भी आलोचना की। गंभीर ने कहा कि, “समझना मुश्किल था कि उन्होंने (न्यूजीलैंड) मिचेल मार्श को शॉर्ट और गलत लाइन पर क्यों गेंदबाजी की। वह एक ऑस्ट्रेलियाई हैं, उन्होंने अपना अधिकांश क्रिकेट वाका, पर्थ में खेला। इसलिए पुल शॉट खेलना सबसे पहले सीखा होगा।”