India-Pakistan मैच कराए जाते हैं Fix, ICC इवेंट्स शेड्यूल पर लगे Fixing के बड़े आरोप

India-Pakistan मैच कराए जाते हैं Fix, ICC इवेंट्स शेड्यूल पर लगे Fixing के बड़े आरोप

लॉयड ने केवल दिखावे के लिए प्रमुख आयोजनों में India-Pakistan को लगातार एक साथ एक ग्रुप में रखने की प्रथा पर अपना कड़ा विरोध व्यक्त किया।

India vs Pakistan (Image Credit- Twitter X)
India vs Pakistan (Image Credit- Twitter X)

भारत और पाकिस्तान के बीच साल 2012-13 से द्विपक्षीय क्रिकेट सीरीज बंद हो चुकी है। INDIA और PAKISTAN के बीच राजनीतिक मतभेदों के कारण दोनों देश अब Bilateral Series नहीं खेलते। 10 साल से दोनों टीमें बस आईसीसी इवेंट्स में ही आमने-सामने होते हैं।

वनडे वर्ल्ड कप 2023 में पाकिस्तान टूर्नामेंट में भाग लेने के लिए भारत आया था। लेकिन आपको बता दें कि भारत कभी भी पाकिस्तान नहीं जाता और उनके टूर्नामेंट न्यूट्रल स्थान पर खेले जाते हैं। साल 2025 में चैंपियंस ट्रॉफी खेले जाएगी जो पाकिस्तान के द्वारा होस्ट की जानी है, लेकिन बीसीसीआई ने न्यूट्रल स्थान का प्रस्ताव रखा है।

लेकिन क्या अपने सोचा है कि भारत-पाकिस्तान हर आईसीसी इवेंट में एक ही ग्रुप में क्यों रहते हैं। सोचने वाली बात है, आपको बता दें कि इसके पीछे एक पैटर्न है जिसे पूर्व इंग्लिश क्रिकेटर और प्रसिद्ध कमेंटेटर डेविड लॉयड ने क्रैक किया है।

क्या Fix होते हैं India vs Pakistan मैच और पूरे Fixture?

लॉयड ने केवल दिखावे के लिए प्रमुख आयोजनों में भारत और पाकिस्तान को लगातार एक साथ एक ग्रुप में रखने की प्रथा पर अपना कड़ा विरोध व्यक्त किया।

इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि फिक्स्चर में फिक्सिंग की जाती है। उन्होंने यह भी कहा कि भारत के सभी मैच प्राइम-टाइम के दौरान रखे गए हैं ताकि भारतीय फैंस आराम से मैच देख सके। भारत ने एक भी रात के मैच नहीं खेले हैं। जिसे वह अन्य टीमों के साथ अन्याय मानते हैं।

इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि कुछ टीमों को मैच के बीच में 2-3 दिन का समय दिया जा रहा है तो कुछ टीमें 1 दिन भी ढंग से रेस्ट नहीं कर पा रही हैं। उनके कहने का मतलब है कि आईसीसी जानबूझकर ऐसे शेड्यूल बना रहा है जो क्रिकेट के लिए खतरा है। 

लॉयड ने टॉकस्पोर्ट से बातचीत में कहा।

“आपने अभी फिक्स्चर की स्वतंत्रता के बारे में बात की। हम क्रिकेट में फिक्सिंग के बारे में लंबी-चौड़ी बातें करते हैं। लेकिन फिक्सिंग होती ही है। सिर्फ मैच को नहीं देखिए, अपने हिसाब से शेड्यूल में हेरफेर करना भी एक तरह से फिक्सिंग है।”

“फैंस को दोनों देशों के बीच मुकाबला देखने की उत्सुकता होती है तो हम उस हिसाब से फिक्स्चर बनाएंगे, ऐसा करना फिक्सिंग ही तो है। इस विशेष विश्व कप में, आप बस हेरफेर करने की कोशिश कर रहे हैं। यह बिल्कुल गलत है।”

close whatsapp