भारतीय टीम के तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार बने पिता, पत्नी नुपुर ने दिल्ली के निजी अस्पताल में दिया बेटी को जन्म - क्रिकट्रैकर हिंदी

भारतीय टीम के तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार बने पिता, पत्नी नुपुर ने दिल्ली के निजी अस्पताल में दिया बेटी को जन्म

24 नवंबर की सुबह भुवनेश्वर की पत्नी ने दिल्ली के एक निजी अस्पताल में दिया बेटी को जन्म।

Bhuvneshwar Kumar and Nupur Nagar. (Photo Source: Instagram)
Bhuvneshwar Kumar and Nupur Nagar. (Photo Source: Instagram)

भारतीय क्रिकेट टीम के सदस्य और तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार की पत्नी ने 24 नवंबर की सुबह दिल्ली के एक निजी अस्पातल में बेटी को जन्म दिया है। 23 नवंबर 2017 को भुवनेश्वर कुमार की शादी नुपुर नागर से हुई थी। पिता बनने की खबर जैसे ही भुवनेश्वर को मिली वह सीधे दिल्ली के लिए रवाना हो गए। वहीं बेटी और मां दोनों ही पूरी तरह से स्वस्थ बताए गए हैं।

न्यूजीलैंड के खिलाफ 3 मैचों की टी-20 सीरीज में भुवनेश्वर कुमार ने अपने फॉर्म में वापसी के संकेत हुए सभी को काफी राहत दी। जिसमें उनकी वही पुरानी स्विंग गेंदबाजी साफतौर पर देखने को मिली थी। पिछले काफी समय से भुवनेश्वर कुमार फिटनेस की समस्या से जूझते हुए नजर आए हैं, जिसके चलते वह सिर्फ टी-20 फॉर्मेट में ही भारतीय टीम के लिए खेलते हुए दिखाई दिए हैं।

बता दें कि साल 2021 की 20 मई को भुवी के पिता किरनपाल सिंह का लीवर की बीमारी के चलते देहांत हो गया था। वहीं इसी दौरान भुवी के परिवार में कई लोगो कोरोना संक्रमण की चपेट में भी आ गए थे। भुवी की पत्नी नुपुर नागर को लेकर बात की जाए तो वह पेशे से इंजीनियर हैं और नोएडा में एक एमएनसी में नौकरी करती थीं।

टी-20 वर्ल्ड कप में कुछ खास प्रदर्शन नहीं कर सके थे भुवनेश्वर कुमार

भुवनेश्वर कुमार के पिछले 1 साल में प्रदर्शन को लेकर बात की जाए तो उनकी जगह पूरी तरह से खतरे में दिखाई पड़ी। जिसका सबसे बड़ा कारण उनका लगातार फिटनेस के मामले में जूझते हुए दिखाई देना। एक समय यह भी खबर सामने निकलकर आई थी कि अब भुवी सिर्फ टी-20 फॉर्मेट में ही अपना ध्यान लगायेंगे जिसको लेकर बाद में उन्होंने पूरी तरह से गलत बता दिया था।

हालांकि न्यूजीलैंड के खिलाफ हाल में खत्म हुई टी-20 सीरीज के दौरान भुवनेश्वर कुमार की गेंदबाजी में सभी को वही पुरानी स्विंग गेंदबाजी देखने को मिली जिसके लिए वह पहचाने जाते हैं। जिसके बाद सभी को भरोसा है कि वह टीम में अपनी जगह को एकबार फिर से पूरी तरह पक्का करने में कामयाब हो सकेंगे।