IPL 2022: जोस बटलर ने GT के खिलाफ अपनी धीमी शुरूआत पर दिया बड़ा बयान - क्रिकट्रैकर हिंदी

IPL 2022: जोस बटलर ने GT के खिलाफ अपनी धीमी शुरूआत पर दिया बड़ा बयान

धीमी शुरुआत के बावजूद जोस बटलर ने 56 गेंदों में 89 रनों की पारी खेली।

Jos Buttler. (Photo Source: Twitter/BCCI)
Jos Buttler. (Photo Source: Twitter/BCCI)

राजस्थान रॉयल्स (RR) के सलामी बल्लेबाज जोस बटलर ने आईपीएल 2022 (IPL 2022) के पहले क्वालीफायर में गुजरात टाइटन्स (GT) के खिलाफ एक और शानदार पारी खेली। हालांकि, वह अपनी टीम को जीत नहीं दिला पाए, क्योंकि नई फ्रेंचाइजी ने धमाकेदार बल्लेबाजी करते हुए यह मैच सात विकेट से जीत लिया।

24 मई को कोलकाता के ईडन गार्डन में खेले गए इस मुकाबले में जोस बटलर ने पावरप्ले के दौरान रनों के लिए संघर्ष किया, लेकिन इस बार वह इस चुनौती को पार करने में सफल रहे, क्योंकि वह पिछले तीन-चार मैचों में रन नहीं बना पा रहे थे। उन्होंने पावरप्ले के बाद गुजरात टाइटन्स (GT) के गेंदबाजों की धुनाई करते हुए 56 गेंदों में 89 रनों की पारी खेली और राजस्थान रॉयल्स (RR) को विरोधी टीम के सामने 189 रनों का मजबूत लक्ष्य रखने में मदद की। उन्होंने ने अपनी पारी के दौरान 12 चौके और 2 छक्के लगाए।

जोस बटलर ने गुजरात के खिलाफ अपनी धीमी शुरुआत पर बात की

हालांकि, गुजरात टाइटन्स (GT) ने यह लक्ष्य अंतिम ओवर में हासिल कर मैच अपने नाम कर लिया,और फाइनल में जगह बनाने के लिए राजस्थान रॉयल्स (RR) को एलिमिनेटर तक इंतजार करने के लिए मजबूर कर दिया। मैच के बाद इंग्लैंड के स्टार बल्लेबाज ने अपनी पारी के शुरुआती दौर में अपने संघर्ष पर बात की।

जोस बटलर ने क्रिकबज के हवाले से कहा: “मुझे शुरुआत में काफी मुश्किल हो रही थी। फिर संजू बल्लेबाजी करने आया और उसने पहली ही गेंद के साथ शानदार शुरुआत की, इसलिए मैं उसे स्ट्राइक देने की कोशिश करता रहा। संजू के कारण मेरे ऊपर का दबाव काफी कम हो गया था। निश्चित ही यह मेरी तेज पारी नहीं थी, लेकिन मैंने मुश्किलों का सामना करते हुए क्रीज पर टिके रहने की कोशिश की, और अंत में मेरी किस्मत ने मेरा साथ दिया।”

उन्होंने आगे कहा: “मैंने बस क्रीज पर टिके रहने की कोशिश की और मुझे खुद पर भरोसा था कि मैं पावरप्ले की चुनौती को पार कर लूंगा। यह हमारे लिए बड़ा मैच था और पहले बल्लेबाजी करते हुए मैं यह सुनिश्चित करना चाहता था कि हम बोर्ड पर अच्छा स्कोर पोस्ट करें। कभी-कभी आपको अपना अहंकार निगलना पड़ता है। किसी भी चीज के लिए खुद को बहुत ज्यादा मजबूर नहीं करना चाहिए और ना ही घबराना चाहिए। मुझे पता है कि विरोधी टीमें मुझसे डरती है, और मुझे जल्दी आउट करना चाहती है, इसलिए मैं बस क्रीज पर रूकने कोशिश करता हूं, अपना समय बिताता हूं, और जब मैं सेट हो जाता हूं तो फिर मुझे बड़े शॉट्स खेलने में कोई दिक्कत नहीं होती है।”