भुवनेश्वर कुमार दक्षिण अफ्रीका में प्रमुख हथियार साबित हो सकते हैं: जवागल श्रीनाथ - क्रिकट्रैकर हिंदी

भुवनेश्वर कुमार दक्षिण अफ्रीका में प्रमुख हथियार साबित हो सकते हैं: जवागल श्रीनाथ

Bhuvneshwar Kumar wicket
Bhuvneshwar Kumar celebrates a wicket. (Photo Source: Twitter)

टेस्ट क्रिकेट की नंबर एक वरीयता प्राप्त टीम इंडिया मौजूदा समय में दक्षिण अफ्रीका दौरे पर है. भारत को तेज और उछाल वाली पिचों पर दक्षिण अफ्रीका के विरुद्ध 3 टेस्ट मैचो की सीरीज खेलनी है, जिसका आग़ाज शुक्रवार (5 जनवरी) को कैपटाउन टेस्ट से होगया.

पिछले ढाई दशक में भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच उनकी धरती पर खेली गई टेस्ट सीरीज की बात करे तो भारत की टीम अफ्रीका के विरुद्ध कोई भी सीरीज नहीं जीती हैं. दक्षिण अफ्रीका में रंगभेद के बाद दौरा करने वाली भारत पहली टीम थी, हालाँकि इस सीरीज में मोहम्मद अज़हरुद्दीन की कप्तानी वाली भारतीय टीम को हार का सामना करना पड़ा था.

भारत की तेज गेंदबाजी से काफ़ी उम्मीदे

दक्षिण अफ्रीका में हार के तिलिस्म को खत्म करने के लिए इस बार चयनसमिति ने दक्षिण अफ्रीका के विरुद्ध एक अधिक तेज गेंदबाज़ को टीम जगह दी है. इस दौरे पर गई टीम इंडिया की गेंदबाज़ी यूनिट में कई ऐसे गेंदबाज़ है, जोकि अपनी अलग-अलग गेंदबाजी कौशलता से अफ्रीकन बल्लेबाज़ों को धराशाही कर सकते है.

जिसके कारण क्रिकेट पंडित आगामी टेस्ट सीरीज में भारत के अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद लगाए बैठे है. दक्षिण अफ्रीका में भारत के सबसे सफ़ल गेंदबाज़ रहे जवागल श्रीनाथ मौजूदा भारतीय टीम की गेंदबाजी को काफ़ी शक्तिशाली मान रहे हैं, और उनका कहना है, कि गेंदबाजी की कमान भुवनेश्वर कुमार की हाथो में होनी चाहिए.

प्रमुख हथियार हो सकते है भुवनेश्वर

नवभारत टाइम्स में छपी ख़बर के अनुसार जवागल श्रीनाथ ने कहा, “भुवनेश्वर कुमार का अपनी स्विंग गेंदबाजी पर शानदार कंट्रोल हैं, वह एक ही स्पीड से दोनों तरफ स्विंग कराता हैं. भुवनेश्वर जिस स्पीड से स्विंग कराते है, उससे वह दक्षिण अफ्रीका में भारत की गेंदबाजी के प्रमुख हथियार हो सकते हैं. दक्षिण अफ्रीका की विकेटो पर गेंद उछाल काफ़ी अच्छा लेती है, इस तरह की विकेट पर भुवनेश्वर काफ़ी प्रभावशाली हो सकते हैं.”

श्रीनाथ ने कहा, “भारतीय टीम प्रबंधक को भुवनेश्वर पर विश्वास करना चाहिए. भुवनेश्वर को किसी नंबर 2 गेंदबाज़ की बजाय टीम के प्रमुख गेंदबाजी हथियार की तरह प्रयोग करना चाहिए.”