भारतीय तेज गेंदबाज हैं केएल राहुल के सबसे बड़े दुश्मन, कहा- वो हमें नेट्स में भी बहुत डराते हैं - क्रिकट्रैकर हिंदी

भारतीय तेज गेंदबाज हैं केएल राहुल के सबसे बड़े दुश्मन, कहा- वो हमें नेट्स में भी बहुत डराते हैं

पहली पारी में शानदार शतकीय पारी खेलने के लिए केएल राहुल को मिला प्लेयर ऑफ द मैच का अवॉर्ड।

KL Rahul v SA. (Photo Source: BCCI)
KL Rahul v SA. (Photo Source: BCCI)

बॉक्सिंग डे टेस्ट मैच के पांचवें दिन भारत ने 113 रन से शानदार जीत दर्ज की, टेस्ट मैच के आखिरी दिन भारतीय गेंदबाजों ने शानदार गेंदबाजी की और दक्षिण अफ्रीका की दूसरी पारी को 191 रनों पर समेट दिया। इस मैच में सर्वाधिक रन बनाने वाले केएल राहुल को प्लेयर ऑफ द मैच का अवॉर्ड मिला। उन्होंने पहली पारी में शतक बनाया और दक्षिण अफ्रीका में यह उपलब्धि हासिल करने वाले केवल दूसरे भारतीय ओपनर बने।

राहुल का शतक ही पहली पारी में दोनों टीमों के स्कोर के बीच सबसे बड़ा अंतर था, क्योंकि भारतीय टीम ने पहली पारी में 327 रन बनाए, जिसमें से 123 रन राहुल के बल्ले से निकले थे वहीं दक्षिण अफ्रीका ने 197 रन बनाए। इसके बाद बाकी का काम भारतीय तेज गेंदबाजों ने किया। सिराज, बुमराह और शमी की तिकड़ी ने टेस्ट मैच में कुल 18 विकेट लेने में कामयाब रहे और शेष दो विकेट दूसरी पारी में रविचंद्रन अश्विन ने लिए।

सभी चार तेज गेंदबाजों में मोहम्मद शमी सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज थे, उन्होंने मैच में कुल आठ विकेट लिए थे, जिसमें पहली पारी में एक पांच विकेट हॉल भी शामिल था। जसप्रीत बुमराह ने भी शानदार खेल दिखाया, उन्होंने कुल मिलाकर पांच विकेट लिए और दोनों पारियों में दक्षिण अफ्रीका के कप्तान डीन एल्गर को अपना शिकार बनाया।

मैच के बाद उप-कप्तान केएल राहुल ने भी जमकर भारतीय गेंदबाजों की तारीफ की। प्रेस कॉन्फ्रेंस में केएल राहुल ने कहा कि, “भारतीय तेज गेंदबाजों को नेट्स में खेलना भी बहुत मुश्किल है, खासकर मेरे लिए और वो हमें नेट्स में बहुत डराते हैं – हम भाग्यशाली हैं कि हमारे पास यह गेंदबाजी आक्रमण है।”

इस साल टेस्ट क्रिकेट में भारत ने किया है शानदार प्रदर्शन

इस साल की शुरुआत भारत ने टेस्ट क्रिकेट की शुरुआत ऑस्ट्रेलिया में जीत के साथ किया था। 2021 में भारत ने अपना पहला टेस्ट मैच सिडनी में खेला था जहां आखिरी दिन हनुमा विहारी और अश्विन की जोड़ी ने 42 ओवर तक बल्लेबाजी करते हुए टेस्ट मैच बचाया था। वही अगले टेस्ट मैच में ब्रिस्बेन के मैदान पर शानदार और ऐतिहासिक जीत दर्ज की थी।

जब भारत सेंचुरियन आया तो यहां दक्षिण अफ्रीका के वर्चस्व को लेकर बहुत कुछ कहा गया। जनवरी 2001 के बाद से दक्षिण अफ्रीका ने यहां केवल एक मैच गंवाया था और भारत पिछले दोनों मुकाबलों में हार गया था। हालांकि, इस मैच में भारतीय तेज गेंदबाज ने शानदार प्रदर्शन करते हुए ऐतिहासिक जीत दर्ज की।