इंग्लैंड को एशेज में मिल रही लगातार हार के लिए IPL को कसूरवार ठहरा रहे हैं माइकल एथर्टन - क्रिकट्रैकर हिंदी

इंग्लैंड को एशेज में मिल रही लगातार हार के लिए IPL को कसूरवार ठहरा रहे हैं माइकल एथर्टन

पांच मैचों की सीरीज में 0-3 से पीछे चल रही रूट एंड कंपनी।

Michael Atherton
Michael Atherton. (Photo Source: Getty Images)

पूर्व बल्लेबाज माइकल एथर्टन एशेज सीरीज में इंग्लैंड को मिल रहे लगातर हार के लिए आईपीएल को कसूरवार ठहरा रहे हैं। एथर्टन का मानना है कि इंग्लैंड के खिलाड़ियों को इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) में खेलने के लिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। ऑस्ट्रेलिया में चल रहे एशेज में इंग्लैंड के निराशाजनक प्रदर्शन को देखने के बाद आथर्टन ने ये टिप्पणी की है।

ब्रिस्बेन, एडिलेड और मेलबर्न में मैच हारने के बाद, जो रूट की कप्तानी में इंग्लिश टीम पांच मैचों की सीरीज को 0-3 से हार चुकी है। अंतिम दो टेस्ट सिडनी और होबार्ट में होने वाले हैं, जिसमें अंतिम मैच एक डे-नाईट टेस्ट मैच होगा। एथर्टन ने कहा कि इंग्लैंड टीम प्रबंधन को ड्रॉइंग बोर्ड पर वापस जाना चाहिए और आगे जाकर इसमें कुछ बदलाव लाने चाहिए।

एथर्टन ने स्पष्ट रूप से कहा कि इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ECB) को टीम के सर्वोत्तम हितों को ध्यान में रखते हुए निर्णय लेने चाहिए। पिछले कुछ वर्षों में, कई अंग्रेजी क्रिकेटरों ने आईपीएल को अधिक महत्त्व दिया है। ये सभी बातें उन्होंने द टाइम्स के लिए कॉलम लिखने के दौरान कही।

आईपीएल की वजह से खिलाड़ियों को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट नहीं छोड़ना चाहिए- माइकल एथर्टन

एथर्टन ने कहा कि, “प्रमुख मल्टी फॉर्मेट खिलाड़ियों को एक अच्छा खासा रकम दिया जाता है। लेकिन अविश्वसनीय रूप से, ईसीबी इंडियन प्रीमियर लीग के दौरान वर्ष के दो महीनों के लिए उनसे हाथ धोता है। खिलाड़ियों को बताया जाना चाहिए कि, जबकि ईसीबी आईपीएल में खेलने के अनुरोध को स्वीकार करेगा तो उन्हें 12 महीने का अनुबंध भी उसी प्रकार से दिया जाएगा। आईपीएल और अन्य फ्रेंचाइजी प्रतियोगिताओं में खेलने के लिए अनापत्ति प्रमाण पत्र देना है यह इंग्लैंड टीम के सर्वोत्तम हित में है।”

एथर्टन ने आगे कहा कि, “खिलाड़ियों को आईपीएल की वजह से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच नहीं छोड़ना चाहिए, न ही उन्हें आराम दिया जाना चाहिए और न ही उन्हें कहीं और खेलने की अनुमति दी जानी चाहिए। सर्दियों के दौरान और समर सीजन की शुरुआत में कैरी-ऑन दोबारा नहीं होना चाहिए।”