घरेलू हिंसा के आरोप में सलाखों के पीछे पहुंचा पूर्व ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज बल्लेबाज - क्रिकट्रैकर हिंदी

घरेलू हिंसा के आरोप में सलाखों के पीछे पहुंचा पूर्व ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज बल्लेबाज

गहन जांच पड़ताल करने के बाद उन्हें 19 अक्टूबर को गिरफ्तार किया गया।

Michael Slater. (Photo Source: Twitter)
Michael Slater. (Photo Source: Twitter)

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर माइकल स्लेटर पर पिछले हफ्ते घरेलू हिंसा का आरोप लगने के बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है। 20 अक्टूबर को सिडनी के मैनाली पुलिस स्टेशन में उन्हें सलाखों के पीछे डाल दिया गया। पुलिस ने कहा कि 12 अक्टूबर को स्लेटर के खिलाफ घरेलू हिंसा की रिपोर्ट दर्ज की गई है जिसकी जांच उन्होंने मंगलवार को शुरू की। पुलिस जांच करते हुए 51 वर्षीय स्लेटर के घर पहुंची और यहीं से उन्हें गिरफ्तार किया गया।

न्यू साउथ वेल्स पुलिस ने एक बयान में कहा, “पूर्वी उपनगर पुलिस से जुड़े अधिकारियों ने 12 अक्टूबर को हिंसा की रिपोर्ट दर्ज करने के बाद जांच पड़ताल शुरू की। 19 अक्टूबर को पूछताछ के बाद पुलिस लगभग 9.20 पर मैनली के घर में गई और वहां पर पूर्व खिलाड़ी से बातचीत करने के बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और मैनली पुलिस स्टेशन ले जाया गया।”

स्लेटर ने पिछले दिनों प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन को लेकर किया था विवादित ट्वीट

पिछले कुछ समय से माइकल स्लेटर अक्सर विवादों के मामले में सबसे आगे रहे हैं। कुछ रिपोर्ट्स की मानें तो हाल ही में ऑस्ट्रेलिया के चैनल 7 ने भी उन्हें बर्खास्त कर दिया था क्योंकि उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई सरकार को अपने ही देश के नागरिकों को भारत से घर वापस नहीं आने देने के लिए अपमानित किया था।

माइकल स्लेटर ने ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन की काफी आलोचना की थी और ट्वीट किया, “अगर हमारी सरकार ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों की सुरक्षा के बारे में चिंता करती तो हमें देश लौटने दिया जाता। ये अपमान है, आप कैसे हमारे साथ इस तरह का व्यवहार कर सकते हैं। आपके क्वारंटाइन सिस्टम का क्या हुआ? मैंने आईपीएल में काम करने के लिए सरकार की अनुमति ली थी, लेकिन फिर भी मुझे सरकारी उपेक्षा का सामना करना पड़ा रहा है।”

बता दें कि IPL के पहले फेज में माइकल स्लेटर कमेंट्री पैनल का हिस्सा था लेकिन जब कोरोना मामलों के चलते इस लीग को बीच में ही स्थगित करना पड़ा तो उन्हें अपने देश वापस जाने के लिए मालदीव में जाकर क्वारंटाइन होना पड़ा था।