पूर्व भारतीय चयनकर्ता ने शार्दुल ठाकुर को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज की शुरुआती एकादश में शामिल करने की वकालत की - क्रिकट्रैकर हिंदी

पूर्व भारतीय चयनकर्ता ने शार्दुल ठाकुर को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज की शुरुआती एकादश में शामिल करने की वकालत की

शार्दुल ने इस साल टेस्ट में भारत के लिए काफी प्रभावशाली प्रदर्शन किया है।

Shardul Thakur. (Photo Source: Getty Images)
Shardul Thakur. (Photo Source: Getty Images)

पूर्व भारतीय मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद का कार्यकाल विवादों से भरा रहा, लेकिन पद से हटने के बाद भी वे लगातार टीम इंडिया और खिलाड़ियों से जुड़े मुद्दों पर अपनी राय रखते आ रहे हैं। इसी में उन्होंने अब दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट सीरीज के लिए भारतीय टीम की शुरुआती एकादश पर बयान दिया है, जिसमें प्रसाद का मानना है कि गेंदबाजी ऑलराउंडर शार्दुल ठाकुर की टीम में जगह बन सकती है।

पांच गेंदबाजी विकल्प में शार्दुल ठाकुर को मौका मिल सकता है: प्रसाद

एमएसके प्रसाद से पूछा गया कि रवींद्र जडेजा के चोटिल होकर सीरीज से बाहर होने के बाद शार्दुल ठाकुर की शुरुआती एकादश में जगह पर उनकी क्या राय है। इसपर प्रसाद ने कहा, “यदि टीम मैनेजमेंट पांच गेंदबाजों के साथ उतरने पर विचार करती है तो मुझे लगता है कि शार्दुल ठाकुर को शामिल किया जाना चाहिए क्योंकि वह नंबर 7 पर बल्लेबाजी का अच्छा विकल्प प्रदान करते हैं। इसके अलावा शार्दुल के पास बड़े मौकों पर टीम के लिए अच्छा प्रदर्शन करने का दमखम है जो टीम के काम आएगा।”

शार्दुल को इस साल तीन टेस्ट मैचों में खेलने का मौका मिला और उन्होंने 22.07 की बेमिसाल औसत से 14 विकेट झटके। इसके अलावा बल्ले से ठाकुर ने 37.20 की औसत से 232 रन बनाए, जिसमें तीन अर्धशतक भी शामिल है। यहां गौर करने वाली बात यह है कि शार्दुल ने यह तीनों अर्धशतक ऐसे वक्त पर बनाए जब भारतीय टीम मुश्किल में थी। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ गाबा और इंग्लैंड के खिलाफ ओवल में हरफनमौला खेल का बेहतरीन नजारा पेश किया था।

चूंकि दक्षिण अफ्रीका की पिचें तेज गेंदबाजों को खासा मदद करती है, ऐसे में यदि भारतीय टीम शार्दुल ठाकुर के साथ उतरती है तो उससे बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों में टीम को धार मिलेगी। इसके अलावा एमएसके प्रसाद ने टीम के सबसे अनुभवी तेज गेंदबाज इशांत शर्मा की जगह पर सवाल उठाते हुए कहा कि उनके ऊपर मोहम्मद सिराज को वरीयता दी जानी चाहिए।