BCCI ने ICC की बैठक में PCB की प्रस्तावित सीरीज पर स्पष्ट किया अपना पक्ष, पढ़िए पूरी खबर - क्रिकट्रैकर हिंदी

BCCI ने ICC की बैठक में PCB की प्रस्तावित सीरीज पर स्पष्ट किया अपना पक्ष, पढ़िए पूरी खबर

भारत और पाकिस्तान केवल बहु-राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में ही एक-दूसरे से भिड़ते है।

Ramiz Raja and Sourav Ganguly (Image Source: Getty Images/BCCI)
Ramiz Raja and Sourav Ganguly (Image Source: Getty Images/BCCI)

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने दुबई में आईसीसी (ICC) की बैठक में कथित तौर पर पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (PCB) के अध्यक्ष रमीज राजा द्वारा प्रस्तावित बहु-राष्ट्र टूर्नामेंट के संबंध में न्यूट्रल रुख अपनाया है।

क्रिकेट फैंस को भारत और पाकिस्तान के बीच मैचों का बेसब्री से इंतजार रहता है, लेकिन दोनों देशों के बीच राजनितिक तनाव के चलते एक दशक से भी अधिक समय से टीम इंडिया और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय सीरीज नहीं खेली जाती है। भारत और पाकिस्तान केवल बहु-राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में ही एक-दूसरे से भिड़ते है।

भारत और पाकिस्तान के बीच वर्तमान हालातों को देखते हुए, पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (PCB) के अध्यक्ष रमीज राजा चार देशों की सीरीज के माध्यम से दोनों देशों के रिश्तों को सुधारने की पहल की है। रमीज राजा ने आईसीसी (ICC) के सामने 4 टीमों भारत, पाकिस्तान, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच एक सीरीज कराने की मांग की हैं।

आईसीसी की बैठक में रमीज राजा के प्रस्ताव पर बीसीसीआई (BCCI) है न्यूट्रल

आईसीसी (ICC) की चीफ एग्जीक्यूटिव कमेटी (CEC) की बैठक में इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ECB) के सीईओ टॉम हैरिसन ने भी इसी तरह की एक सीरीज का सुझाव दिया है। लेकिन, वर्तमान नियमों के अनुसार, आईसीसी (ICC) अपने सदस्य देशों को तीन देशों से अधिक देशों के बीच कोई सीरीज आयोजित करने की इजाजत नहीं देता है, क्योंकि इससे टी-20 या वनडे वर्ल्ड कप जैसी लोकप्रिय प्रतियोगिताओं का महत्त्व कम होने की आशंका है।

इस बीच, क्रिकबज की रिपोर्ट के मुताबिक, रमीज राजा के प्रस्तावित सीरीज पर बीसीसीआई (BCCI) ने अपना रुख साफ कर दिया है। फिलहाल, भारतीय क्रिकेट बोर्ड इस मामले में न्यूट्रल बना हुआ है, जिसका मतलब है, न तो बीसीसीआई (BCCI) ने चार देशों के बीच सीरीज के लिए हां कहा है, और  ना  ही इनकार किया है।

एक सूत्र के मुताबिक बीसीसीआई (BCCI) चाहता है अगर ये मामला आगे बढ़ता है, तो बढ़े, लेकिन वे अपना फैसला आखिर में बताएंगे। ऐसे में अब ये देखना दिलचस्प होगा कि आईसीसी (ICC) क्या फैसला लेता है।