आलोचनाओं के बीच ऑस्ट्रेलियाई कोच जस्टिन लैंगर को मिला रिकी पोंटिंग का साथ - क्रिकट्रैकर हिंदी

आलोचनाओं के बीच ऑस्ट्रेलियाई कोच जस्टिन लैंगर को मिला रिकी पोंटिंग का साथ

पिछले कुछ समय से क्रिकेट मैदान पर ऑस्ट्रेलिया का प्रदर्शन रहा है बेहद साधारण।

Ricky Ponting and Justin Langer. (Photo by Morne de Klerk/Getty Images)
Ricky Ponting and Justin Langer. (Photo by Morne de Klerk/Getty Images)

ऑस्ट्रेलिया के मुख्य कोच जस्टिन लैंगर जो इस समय चारों तरफ से विवादों के बीच घिरे हुए हैं, उनको इस बार पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान रिकी पोंटिंग का साथ मिला है। पिछले कुछ समय से ऑस्ट्रेलिया टीम का प्रदर्शन बेहद निराशाजनक रहा है जिसके बाद लैंगर सभी आलोचकों की नजरों में बने हुए हैं।

हाल ही में ऑस्ट्रेलियाई टीम बांग्लादेश दौरे पर गई थी जहां उसे पांच टी-20 मैचों की सीरीज में 4-1 से हार का सामना करना पड़ा था। टी-20 वर्ल्ड कप से पहले ऑस्ट्रेलिया अब तक पांच द्विपक्षीय टी-20 सीरीज खेल चुकी है और सभी में उसे हार का सामना करना पड़ा है। इस प्रदर्शन को देखते हुए टीम के खिलाड़ियों के ऊपर और कोच के तौर पर लैंगर की भूमिका को लेकर कई सवाल खड़े हुए हैं। साथ ही उनके और टीम के खिलाड़ियों के बीच मनमुटाव को लेकर भी कई बातें सामने आ रही हैं।

रिकी पोंटिंग ने जस्टिन लैंगर को लेकर क्या कहा?

इसको लेकर ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग ने कहा कि, मैंने लैंगर को उस वक्त बताया था कि नतीजे ऑस्ट्रेलिया के पक्ष में नहीं आ रहे हैं और इसी वजह से उन्हें निशाना बनाया जा रहा है। जैसा कि मैंने जस्टिन को स्पष्ट रूप से बता दिया कि जब आप ऑस्ट्रेलियाई खेलों में उस स्थिति में होते हैं, चाहे आप हाई प्रोफाइल कोच हों या फिर राष्ट्रीय टीम के कप्तान, यदि आपको नतीजे नहीं मिल रहे हैं तो आपको आलोचना की उम्मीद करनी चाहिए।

हालांकि, रिकी पोंटिंग का ये भी मानना है कि जस्टिन लैंगर को एक या दो सीरीज के आधार पर नहीं आंकना चाहिए क्योंकि उन दोनों सीरीज में ऑस्ट्रेलिया के कई मुख्य खिलाड़ी मौजूद नहीं थे। उन्होंने आगे कहा कि “बांग्लादेश और वेस्टइंडीज का पिछला दौरा कोचों को आंकने के लिए काफी मुश्किल है क्योंकि मुझे लगता है कि टी-20 और वनडे क्रिकेट के लिए आपके शुरुआती XI के आठ या नौ खिलाड़ी मौजूद नहीं थे।”

लैंगर को लेकर मुझे दुख हुआ: पोंटिंग

पोंटिंग ने आगे अपने बयान में कहा कि, “मुझे ऐसा लगता है कि कप्तान और कुछ सीनियर खिलाड़ियों ने जस्टिन के साथ उन चीजों के बारे में कुछ बातचीत की है जो उन्हें लगता है कि उन्हें बेहतर करने की जरूरत है। लेकिन वह भी उस तरह का व्यक्ति है जो उस तरह की सलाह चाहता है। वह यह जानना चाहता है कि वह कैसे और बेहतर हो सकता है और वह क्या और बेहतर कर सकता है।

मुझे पता है कि पिछले कुछ हफ्तों में बहुत सारी नकारात्मकता रही है। मैंने वास्तव में जस्टिन के बारे में ऐसा महसूस किया है और मैंने साथ ही जस्टिन को कई बार फोन भी किया। वे विंडीज और बांग्लादेश के कठिन दौरे के बाद वापस लौटे और लैंगर ने खुद को एडिलेड में क्वारंटाइन के दौरान होटल के कमरे में बंद कर लिया। मैं और उनके कुछ करीबी दोस्त उनके पास पहुंचे।”

रिकी पोंटिंग से पहले उस्मान ख्वाजा समेत कई खिलाड़ी जस्टिन लैंगर का बचाव कर चुके हैं। हालांकि, अब देखना दिलचस्प होगा कि अक्टूबर में होने वाले टी-20 वर्ल्ड कप और एशेज सीरीज में उनकी टीम कैसा प्रदर्शन करती है।