पूर्व भारतीय खिलाड़ी ने ऋषभ पंत और जॉस बटलर की विकेटकीपिंग की तुलना करते हुए दिया बड़ा बयान - क्रिकट्रैकर हिंदी

पूर्व भारतीय खिलाड़ी ने ऋषभ पंत और जॉस बटलर की विकेटकीपिंग की तुलना करते हुए दिया बड़ा बयान

पूर्व भारतीय विकेटकीपर ने बांधे ऋषभ पंत के तारीफों के पुल

Rishabh Pant. (Photo Source: Sony Liv)
Rishabh Pant. (Photo Source: Sony Liv)

भारत के पूर्व विकेटकीपर सबा करीम ने ऋषभ पंत की जमकर तारीफ की है। इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में शानदार कीपिंग का प्रदर्शन देखने के बाद सबा करीम ऋषभ पंत के मुरीद हो गए हैं। उन्होंने पंत की तुलना इंग्लैंड के विकेटकीपर जॉस बटलर से की है। सबा करीम का मानना है कि जब इंग्लैंड में कीपिंग करने की बात आती है तो कीपर के लिए चुनौतियां बढ़ जाती हैं। इंग्लैंड में तेज हवा की वजह से गेंद इधर-उधर चलती है जिसकी वजह से विकेटकीपिंग करना कठिन हो जाता है।

हालांकि, सबा करीम का मानना है कि पंत ने विकेट के पीछे शानदार काम किया। समय के साथ पंत भारतीय टीम के सबसे विश्वसनीय खिलाड़ियों में से एक हो गए हैं। पिछले कुछ समय में उन्होंने अपने खेल में कुछ इस कदर निखार लाया है कि अब उनके खेल की चर्चा चारों तरफ होती है। पहले टेस्ट मैच में पंत ने शानदार विकेटकीपिंग की और कुछ अच्छे कैच भी लपके।

सबा करीम ने यूट्यूब शो पर जमकर की तारीफ

बटलर से तुलना करते हुए सबा करीम ने कहा कि ‘जिस तरह गेंद विकेट के पीछे जाने के बाद घूम रही थी, वहां गेंद पकड़ना आसान नहीं था। पंत की कीपिंग बटलर से बेहतर थी। बटलर ने अपने घरेलू हालात में पंत से अधिक मैच खेले हैं लेकिन इस मैच के दौरान पंत उनसे अधिक प्रभावशाली दिखे।’

एंडरसन को उनके आखिरी दौर में देखना सौभाग्य की बात- सबा करीम

करीम ने शो के दौरान इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन की भी जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा कि एंडरसन एक ऐसे खिलाड़ी हैं जो कई वर्षों से इंग्लैंड की टीम का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। पहले टेस्ट मैच में भी भारत के खिलाफ वह हमेशा की तरह बेहद खतरनाक दिखे। उन्होंने हाल ही में अनिल कुंबले के 619 विकेटों का भी रिकॉर्ड तोड़ा और टेस्ट इतिहास में सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाजों की सूची में तीसरे पायदान पर आ गए।

सबा करीम ने कहा कि जेम्स एंडरसन को उनके करियर के आखिरी पड़ाव पर खेलते हुए देखना मेरे लिए सौभाग्य की बात है। जिस तरह से वह इस उम्र में भी कड़ी मेहनत करते हैं और तैयारी करते हैं, वह तारीफ के काबिल है। उनकी मानसिकता और बल्लेबाज को सेट करके आउट करने का तरीका सभी युवाओं के लिए देखने लायक है।