रोहित और विराट के होते हुए, गावस्कर मयंक अग्रवाल को बता रहे हैं बल्लेबाजी का 'बॉस' - क्रिकट्रैकर हिंदी

रोहित और विराट के होते हुए, गावस्कर मयंक अग्रवाल को बता रहे हैं बल्लेबाजी का ‘बॉस’

पहले टेस्ट मैच में रोहित शर्मा के साथ मयंक अग्रवाल ने की थी ओपनिंग।

Sunil Gavaskar and Mayank Agrwal (Photo Source: Getty Images)
Sunil Gavaskar and Mayank Agrwal (Photo Source: Getty Images)

चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे जैसी बड़े खिलाड़ियों को श्रीलंका के खिलाफ सीरीज के लिए टीम से बाहर किया गया और उसके बाद उनकी जगह पर कुछ युवा खिलाड़ियों को शामिल किया गया। मोहाली टेस्ट मैच में हनुमा विहारी तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे, जबकि रहाणे की जगह श्रेयस अय्यर ने ली। इस बीच, कुछ एक्सपर्ट का मानना था कि नंबर तीन पर शुभमन गिल को मौका मिलना चाहिए।

केएल राहुल के इस सीरज के लिए अनुपलब्ध होने के कारण, टीम प्रबंधन को कप्तान रोहित के साथ ओपनिंग करने के लिए गिल और अग्रवाल में से किसी एक को चुनना था। विशेष रूप से, अग्रवाल को इस साल की शुरुआत में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट सीरीज में कठिन समय का सामना करना पड़ा था।

दूसरी ओर, गिल ने अपनी पिछली तीन पारियों में 52, 47 और 44 के स्कोर बनाए हैं। इसलिए, कई लोगों ने माना कि 22 वर्षीय गिल को मौका मिलेगा लेकिन टीम प्रबंधन ने अग्रवाल का समर्थन किया। इस बीच इसी मुद्दे को लेकर पूर्व भारतीय दिग्गज खिलाड़ी सुनील गावस्कर ने अपनी महत्वपूर्ण राय दी है। गावस्कर ने बताया कि टीम प्रबंधन को शुभमन और मयंक में से किसे मौका देना चाहिए।

सुनील गावस्कर ने बताया मयंक को बल्लेबाजी का बॉस

गावस्कर ने स्पोर्ट्स तक के हवाले से कहा कि, “वह (गिल) पिछले दो महीने से किसी भी तरह का क्रिकेट नहीं खेला है। वह रणजी ट्रॉफी भी नहीं खेला है, अगर आपको भारत के लिए खेलना है तो आपको किसी प्रकार का क्रिकेट और प्रैक्टिस की जरूरत होती है। बेशक इसमें कोई शक नहीं कि उसके पास टैलेंट है मगर अंत में यह सब कुछ फॉर्म पर निर्भर करता है।”

उन्होंने आगे कहा कि, “अगर आप ध्यान से देखें तो मयंक अग्रवाल हमेशा घर में बड़े स्कोर करते हैं। वह भारत में बॉस की तरह बल्लेबाजी करते हैं मगर ओवरसीज में वह बड़े स्कोर नहीं कर पाते। उसके पास कम से कम एक शतक या दोहरा शतक है। तो निश्चित रूप से उन्हें ओपन करना चाहिए। वहीं तीसरे नंबर पर हनुमा विहारी हैं, उन्होंने क्या गलत किया है? दक्षिण अफ्रीका में, उन्हें एक मौका मिला और उन्होंने भारत की दूसरी पारी में रन जोड़ते हुए रक्षात्मक रूप से बल्लेबाजी की। इसलिए उन्हें भी मौके मिलने चाहिए।”