in

वीरेन्द्र सहवाग ने 2019 में होने वाले विश्वकप के लिए इस भारतीय खिलाड़ी को बताया टीम के लिए सबसे अहम

वीरेन्द्र सहवाग जिन्होंने अपना पहला विश्वकप 2003 में खेला था उस पर उन्होंने कहा कि

Virender Sehwag. (Photo Source: Twitter)
Virender Sehwag. (Photo Source: Twitter)

भारतीय टीम के पूर्व ओपनिंग बल्लेबाज़ वीरेन्द्र सहवाग जो इस समय इंडियन प्रीमियर लीग में किंग्स इलेवन पंजाब की टीम के लिए मेंटर की भूमिका को निभा रहे है साथ ही सहवाग की नजर भारतीय टीम की प्रगती पर भी रहती है कि टीम कैसा खेल रही है क्योंकि उसी अनुसार वे समय – समय पर अपनी टिप्पणी करते रहते है. हाल में ही एक इवेंट में सहवाग ने भारतीय टीम के 2019 में होने वाले विश्वकप को लेकर अपना पक्ष रखा कि टीम वहां पर कैसा प्रदर्शन करेगी.

मुझे इन लोगों ने बेहद मदद करी

वीरेन्द्र सहवाग जिन्होंने अपना पहला विश्वकप 2003 में खेला था उस पर उन्होंने कहा कि “एक युवा खिलाड़ी होने के नाते मैंने अपना पहला विश्वकप 2003 में खेला था और उस समय टीम में सौरव गांगुली, सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़ और अनिल कुंबले जैसे सीनियर खिलाड़ी मौजूद थे जिन्होंने हम जैसे युवा खिलाड़ियों को काफी मदद की और ऐसे ही अब 2019 में होने वाले विश्वकप के दौरान महेंद्र सिंह धोनी को भी टीम में मौजूद युवा खिलाड़ियों की मदद करनी होगी.”

धोनी पर काफी कुछ निर्भर करेगा

महेंद्र सिंह धोनी इस समय मौजूदा भारतीय टीम में सबसे अधिक अनुभवी खिलाड़ी है और 2019 में होने वाले विश्वकप में टीम का प्रदर्शन उनके उपर काफी कुछ निर्भर करेगा इसी पर 2011 के विश्वकप की याद को ताज़ा जरते हुए सहवाग ने अपने बयान में आगे कहा कि “हमने 2011 विश्वकप शुरू होने के २ साल पहले ही इसके लिए तैयारीं को शुरू कर दिया था. हमने टीम मीटिंग की जहाँ पर हमने इस बात का निर्णय लिया कि हर मैच को नॉकआउट मैच की तरह ही खेलेंगे.”

“यदि हम इस दौरान हारते है तो हम विश्वकप से भी बाहर हो जायेंगे इसलिए हमने इस पूरे विश्वकप के दौरान सिर्फ 1 मैच को छोड़कर फ़ाइनल तक के सभी मैच में जीत को हासिल किया था.”

Mohammad Shami (Photo Source: Twitter)

शमी नही उठा रहे है फोन, पत्नी और बेटी मिलने को बेताब

Yuvraj Singh

इन 5 खिलाड़ियों के लिए सबसे महत्वपूर्ण है आईपीएल सीजन 11