2021 में विराट कोहली की वो 5 बेहतरीन पारियां - क्रिकट्रैकर हिंदी

2021 में विराट कोहली की वो 5 बेहतरीन पारियां

अपने टॉप फॉर्म में नहीं होने के बावजूद विराट इस साल कुछ बेहतरीन परियां खेली है।

Virat Kohli
Virat Kohli. (Photo Source: Twitter)

विराट कोहली इस पीढ़ी के महानतम खिलाड़ियों में से एक हैं। चाहे वह अगले कुछ वर्षों में कैसा भी प्रदर्शन करे, लेकिन उनका नाम निश्चित रूप से इतिहास की किताबों में सर्वकालिक महान क्रिकेटरों में से एक के रूप में दर्ज होगा। यह कहना गलत नहीं होगा कि वह किसी सुपरहीरो से कम नहीं हैं। हालांकि पिछले कुछ वर्षों में विराट बेहद आसानी के साथ रन बनाते हुए नजर आ रहे हैं।

उनकी बल्लेबाजी देखकर ऐसा लगता है कि शतक बनाना उनके लिए रोज का काम हो गया है। लेकिन भारतीय बल्लेबाज पिछले एक साल में अपने सर्वश्रेष्ठ फॉर्म में नहीं दिखे हैं। उनके रिकॉर्ड को ध्यान से देखें तो, 2021 भारत के टेस्ट कप्तान के लिए कम से कम एक बल्लेबाज के रूप में औसत दर्जे का वर्ष साबित हुआ है। फिर भी इस साल, उन्होंने कुछ मौकों अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया और मुश्किल परिस्थिति में बेहतरीन परियां खेली।

आइए नजर डालते हैं 2021 में विराट कोहली की टॉप 5 परियों पर

1) 57 (49) बनाम पाकिस्तान, ICC टी-20 वर्ल्ड कप

Virat Kohli. (Photo by AAMIR QURESHI/AFP via Getty Images)
Virat Kohli. (Photo by AAMIR QURESHI/AFP via Getty Images)

वर्ल्ड कप जैसे बड़े टूर्नामेंट में रन बनाने के लिए मजबूत दृढ़संकल्प की जरूरत होती है, और इसी दृढ़ता के साथ विराट कोहली ICC टी-20 वर्ल्ड कप में पहुंचे थे। पाकिस्तान-भारत के बीच एक हाई-वोल्टेज मैच में, विराट कोहली टीम को एक बार फिर आगे से नेतृत्व करते हुए दिखे।

इस मैच में भारत के सलामी बल्लेबाज शाहीन अफरीदी का शिकार हुए, जो उस दिन अलग ही फॉर्म में नजर आ रहे थे। ICC टी-20 वर्ल्ड कप के अपने शुरुआती मुकाबले में भारत मात्र छह रन के स्कोर पर अपने दो विकेट गंवा चूका था। जहां भारत के अन्य बल्लेबाज उस पिच पर टिक नहीं पा रहे थे , वहीं तत्कालीन कप्तान कोहली को देखकर ऐसा लग रहा था कि वह एक अलग सतह पर बल्लेबाजी कर रहे हैं।

अपनी क्लास का प्रदर्शन करते हुए, विराट ने 49 गेंदों में 57 रन बनाए, जिसमें पांच चौके और एक छक्का शामिल था। उनकी इसी पारी ने टीम को 151 रन के सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया था। हालांकि, बाबर आजम की अगुवाई वाली टीम ने बिना एक विकेट खोए, केवल 17.5 ओवरों में लक्ष्य को हासिल कर लिया और कोहली की पारी भारत को जीत नहीं दिला सकी।