टेस्ट सीरीज शुरू होने से ठीक पहले अजिंक्य रहाणे ने अपने आलोचकों को दिया तीखा जवाब - क्रिकट्रैकर हिंदी

टेस्ट सीरीज शुरू होने से ठीक पहले अजिंक्य रहाणे ने अपने आलोचकों को दिया तीखा जवाब

इंग्लैंड दौरे पर अजिंक्य रहाणे का प्रदर्शन निराशाजनक रहा था।

Ajinkya Rahane
Ajinkya Rahane. (Photo Source: Getty Images)

अजिंक्य रहाणे ने एक बार फिर अपनी बल्लेबाजी फॉर्म को लेकर चिंताओं और आलोचनाओं को करारा जवाब दिया है। रहाणे न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले टेस्ट में भारत का नेतृत्व करेंगे, उन्होंने टिप्पणी की है कि उनका ध्यान टीम में योगदान देना है, भले ही वो योगदान 40 या 50 रनों का क्यों न हो ?

भारत न्यूजीलैंड के खिलाफ दो टेस्ट खेलेगा। टेस्ट कप्तान विराट कोहली अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से ब्रेक पर हैं और दूसरे टेस्ट के लिए वापसी करेंगे। हाल ही में, सीरीज का पूर्वावलोकन करते हुए, भारत के पूर्व बल्लेबाज गौतम गंभीर ने अजिंक्य रहाणे को अभी भी टीम का हिस्सा बनने के लिए ‘बहुत भाग्यशाली’ बताया था।

अपने हालिया फॉर्म को लेकर अजिंक्य रहाणे ने क्या कहा ?

प्री-सीरीज प्रेस कॉन्फ्रेंस में अजिंक्य रहाणे से उनके फॉर्म और गंभीर के कमेंट के बारे में पूछा गया। 33 वर्षीय रहाणे ने कहा कि देश का नेतृत्व करना उनका ‘सम्मान’ है क्योंकि वह भविष्य के बारे में बहुत ज्यादा परेशान हुए बिना अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन देने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं।

रहाणे ने कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि, “मुझे अपने फॉर्म को लेकर कोई चिंता नहीं है। मेरा काम यह सोचना है कि मैं टीम में कैसे योगदान दे सकता हूं और योगदान का मतलब यह नहीं है कि आपको हर खेल में 100 बनाने की जरूरत है। 30-40 रन या 50-60 रन एक महत्वपूर्ण क्षण में एक बहुत ही अहम योगदान है।”

उन्होंने आगे कहा कि, “मैं हमेशा टीम के बारे में सोचता हूं और अपने बारे में कभी नहीं सोचता, ‘मेरे लिए आगे क्या है?’ या ‘भविष्य में क्या होगा?’ मुझे लगता है कि मैं बहुत भाग्यशाली और आभारी हूं, देश का नेतृत्व करना मेरे लिए सम्मान की बात है। इसलिए क्या होगा इसके बारे में ज्यादा परेशान नहीं है। मेरा ध्यान एक विशेष क्षण में अपना सर्वश्रेष्ठ देना है।”

रहाणे से जब बल्लेबाजी और कप्तानी में संतुलन बनाए रखने को लेकर सवाल किया गया, तो उन्होंने इसका जवाब देते हुए कहा कि, “जब मैं बल्लेबाजी कर रहा होता हूं तो मैं एक कप्तान के रूप में नहीं होता हूं, मैं वहां एक बल्लेबाज के रूप में होता हूं इसलिए मैं सिर्फ बल्लेबाजी पर ध्यान केंद्रित कर रहा होता हूं। लेकिन एक बार जब मेरी बल्लेबाजी खत्म हो जाती है और हम क्षेत्ररक्षण कर रहे होते हैं तो कप्तानी शुरू हो जाती है।”