in

बिहार के इस स्पिनर ने रणजी मैच में मचाया तहलका, फिर भी टीम इंडिया में जगह बना पाना मुश्किल

टीम इंडिया मौजूदा समय में आर अश्विन, युजवेंद्र चहल, कुलदीप यादव और रविंद्र जडेजा के बीच जगह बनाने को लेकर घमासान रहता है।

ashutosh aman ( pic source: Twitter)
ashutosh aman ( pic source: Twitter)

क्रिकेट की दुनिया में टीम इंडिया ने कई प्रतिभावान खिलाड़ी दिए हैं। कपिल देव से लेकर विराट कोहली तक बेहतरीन क्रिकेट भारत ने विश्व क्रिकेट को दिए हैं। मौजूदा समय में बिहार राज्य का एक स्पिनर गेंदबाज़ अपनी गेंदबाज़ी से सबको हैरान किए हुए है।

इस गेंदबाज़ ने मैदान पर जिस तरह अपनी फिरकी से बल्लेबाज़ों को नचाया है वो वाकई में काफी काबिले तारीफ है। ऐसे में जानना दिलचस्प होगा कि ये स्पिनर किस तरह अपनी स्पिन से हर किसी को हैरान किया हुआ है।

आशुतोष अमन की फिरकी का नहीं किसी बल्लेबाज़ के पास जवाब

बिहार के गया जिले में एक छोटा सा गांव है। गांव का नाम है सोलरा। आशुतोष अमन वहीं से ही ताल्लुक रखते हैं। आशुतोष लेफ्ट आर्म स्पिनर के तौर पर बिहार की रणजी टीम में खेलते हैं।

साल 2018- 19 के सीजन में इस गेंदबाज़ ने बिहार टीम के लिए डेब्यू किया। उन्होंने 8 मैच खेलते हुए 68 विकेट चटकाए।

बिशन सिंह बेदी का तोड़ा रिकॉर्ड

आशुतोष ने क्रिकेट के मैदान में दस्तकर रखते ही दिग्गज़ स्पिनर बिशन सिंह बेदी का 1974- 75 में बनाया रिकॉर्ड तोड़ दिया। बेदी ने तब उस सीजन में 64 विकेट लिए थे।

आशुतोष इस सीजन में एक दमदार हैट्रिक भी ले चुके हैं। जानकर हैरानी होगी कि ये स्पिनर पांच बार 10 विकेट और 9 बार पांच विकेट चटका चुका है।

टीम इंडिया में जगह बना पाना मुश्किल

आशुतोष बेहतरीन गेंदबाज़ी कर हैं। बावजूद इसके लिए उनके लिए टीम इंडिया में जगह बना पाना मुश्किल है। बता दें कि टीम इंडिया मौजूदा समय में आर अश्विन, युजवेंद्र चहल, कुलदीप यादव और रविंद्र जडेजा के बीच जगह बनाने को लेकर घमासान रहता है।

ऐसे में आशुतोष को बाकी खिलाड़ियों की तर्ज पर टीम मैनेजमेंट इतना मौका नहीं देगा कि वह जल्द टीम में जगह बना सकें। बावजूद इसके ये गेंदबाज़ मैदान पर बल्लेबाज़ों के लिए अबूझ पहेली बना हुआ है।

Mohammed Siraj

जानिए गेंदबाज़ मोहम्मद सिराज के बारे में, जिनके घर कोहली ने ज़मीन पर बैठकर खाई थी बिरयानी!

Rohit Sharma. (Photo Source: Instagram)

हिटमैन रोहित शर्मा : फर्श से उठकर ऐसे तय किया अर्श तक का सफर