टी20 क्रिकेट में बाबर आजम के तीन हजार रन, 92 पारियों में इस तरह रच दिया इतिहास - क्रिकट्रैकर हिंदी

टी20 क्रिकेट में बाबर आजम के तीन हजार रन, 92 पारियों में इस तरह रच दिया इतिहास

Babar Azam (photo by twitter)
Babar Azam (photo by twitter)

पाकिस्तान के तूफानी बल्लेबाज बाबर आजम ने टी20 क्रिकेट में अपने तीन हजार रन पूरे किए। पीएसएल 2019 के एक मैच में कराची किंग्स की ओर से खेलते हुए बाबर ने 59 गेंदों में छह चौकों और 1 छक्के की मदद से 77 रनों की तेज पारी खेली और टी20 क्रिकेट में 3 हजार बनाने का कारनामा पूरा किया। वह टी20 क्रिकेट में सबसे तेज 1 हजार रन बनाकर विराट कोहली का रिकॉर्ड तोड़ चुके हैं।

बाबर ने 29 अंतरराष्‍ट्रीय टी20 मैचों में 53.72 की औसत से 9 अर्धशतकों की मदद से 1182 रन बनाए हैं जबकि टी20 क्रिकेट में उनका ओवरऑल औसत केवल 41.5 ही है। उन्होंने 92 टी20 मैचों में 24 अर्धशतकों की मदद से 3071 रन बनाए हैं। यह टी20 क्रिकेट में किसी भी बल्लेबाज के लिए चौंका देने वाला आंकड़ा। है।

बाबर आजम ने आज पीएसएल 2019 में कराची किंग्स के पहले ही मैच में मैच विनिंग अर्धशतक लगाया। मुल्तान सुल्तांस के खिलाफ खेले गए इस मैच में उन्होंने लियाम लिविंगस्टोन के साथ पहले विकेट के लिए 157 रन जोड़े।

Fastest players to 3000 runs in Twenty20 cricket
Fastest players to 3000 runs in Twenty20 cricket

टी20 मैचों में सबसे तेज 3 हजार रन बनाने वाले खिलाड़ी : इस पाकिस्तानी बल्लेबाज ने छक्के से टी20 क्रिकेट में अपने तीन हजार रन पूरे किए। यह उपलब्धि बाबर आजम ने 92 पारियों में अर्जित की। यह इतनी कम पारियों में यह कारनामा करने वाले दुनिया के चौथे बल्लेबाज हैं। इससे पहले यह कारनामा शेन मार्श 87 मैचों में कर चुके हैं। मार्श के बाद क्रिस गेल और आरोन फिंच का नंबर आता है। यह दोनों बल्लेबाज भी क्रमश : 87 और 90 मैचों में यह उपलब्धि हासिल कर चुके हैं।

Fastest 3000 runs in Twenty20 cricket among Asian players
Fastest 3000 runs in Twenty20 cricket among Asian players

टी20 क्रिकट में सबसे तेजी से 3 हजार रन बनाने वाले एशियाई खिलाड़ी : बाबर आजम यह उपलब्धि हासिल करने वाले पाकिस्तान के 9वें खिलाड़ी हैं। बाबर से पहले अहमद शहजाद ने 106 मैचों में 3000 रन बनाए थे। वास्तव में बाबर 100 मैचों से कम में यह उपलब्धि हासिल करने वाले पहले एशियाई खिलाड़ी हैं। बांग्लादेश के मोहम्मद शहजाद ने 101 पारियों में यह कारनामा किया था।