टी-20 विश्व कप से पहले नए कोच की तलाश शुरू करेगा BCCI - क्रिकट्रैकर हिंदी

टी-20 विश्व कप से पहले नए कोच की तलाश शुरू करेगा BCCI

हेड कोच रवि शास्त्री, बॉलिंग कोच भरत अरुण और फिल्डिंग कोच आर श्रीधर का कार्यकाल टी-20 वर्ल्ड कप के बाद समाप्त हो जाएगा।

Sourav Ganguly
Sourav Ganguly. (Photo Source: Twitter)

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) भारत के मुख्य कोच रवि शास्त्री के उत्तराधिकारी की तलाश शुरू करने जा रहा है। रवि शास्त्री टीम इंडिया के मौजूदा कोच हैं और उनका कार्यकाल टी-20 वर्ल्ड कप के बाद खत्म हो जाएगा। उनके साथ गेंदबाजी कोच भरत अरुण और फील्डिंग कोच आर श्रीधर का कार्यकाल भी समाप्त होने जा रहा है, जिसके कारण बोर्ड को अब नए कोच की खोज में लगना होगा।

उम्मीद की जा रही है कि बोर्ड इस हफ्ते के अंत तक इन पदों के लिए आवेदन की प्रक्रिया शुरू कर सकता है। टी-20 वर्ल्ड कप के ठीक बाद टीम इंडिया को अपने घर पर न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज खेलनी है और बोर्ड को इस सीरीज से पहले ही नए कोच की नियुक्ति करनी होगी।

इसको लेकर BCCI के अधिकारी ने टाइम्स ऑफ इंडिया के हवाले से कहा है कि “बोर्ड 14 अक्टूबर को इन पदों के लिए आवेदन का प्रचार शुरू करने पर विचार कर रहा है। बोर्ड न्यूजीलैंड सीरीज के लिए ही नए कोच को लाने की कोशिश में है जिससे दिसंबर के दूसरे हफ्ते में शुरू होने वाले दक्षिण अफ्रीका दौरे से पहले ही वह ड्रेसिंग रूम के माहौल से वाकिफ हो जाए।”

कोच के पद के लिए कुछ बड़े खिलाड़ियों के आवेदन की उम्मीद कर रहा BCCI

कुछ सूत्रों के मुताबिक, बोर्ड इस भूमिका के लिए पूर्व खिलाड़ियों अनिल कुंबले और वीवीएस लक्ष्मण से संपर्क कर चुकी है। लेकिन कुछ सूत्रों का मानना है कि कुछ बड़े नाम भी इस पद के लिए अपना आवेदन दे सकते हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि, “इस पद के लिए कुछ बड़े खिलाड़ी भी अपना आवेदन दे सकते हैं। बोर्ड इंतजार करेगा और देखेगा कि इस पद के लिए किसने आवेदन किया है, उसके बाद ही इसपर कुछ निर्णय लिया जाएगा।”

कुछ रिपोर्ट्स पर भरोसा किया जाए तो पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज और नेशनल क्रिकेट अकादमी (NCA) के गेंदबाजी कोच पारस म्हाम्ब्रे भारतीय टीम के अगले गेंदबाजी कोच बनने की रेस में सबसे आगे माने जा रहे हैं। पिछले छह सालों से म्हाम्ब्रे NCA में गेंदबाजों की नई पीढ़ी को निखारने का काम कर रहे हैं। इसको लेकर BCCI के अधिकारी ने कहा है कि,”अंडर-19 विश्व कप के लिए भारतीय टीम के पास तैयारी करने का कम समय है और ऐसे में यदि म्हाम्ब्रे सीनियर टीम में आना चाहेंगे तो उनका विकल्प खोजना पड़ेगा।”