पूर्व इंग्लिश क्रिकेटर ग्रीम स्वान रवींद्र जडेजा को कप्तानी करते हुए देख खुश नहीं थे - क्रिकट्रैकर हिंदी

पूर्व इंग्लिश क्रिकेटर ग्रीम स्वान रवींद्र जडेजा को कप्तानी करते हुए देख खुश नहीं थे

आईपीएल 2022 से ठीक पहले महेंद्र सिंह धोनी ने कप्तानी छोड़ने और इसे रविंद्र जडेजा को सौंपने का फैसला लिया था।

Ravindra Jadeja and Graeme Swann (Photo Source: Twitter)
Ravindra Jadeja and Graeme Swann (Photo Source: Twitter)

आईपीएल 2022 से पहले, जब एमएस धोनी ने चेन्नई सुपर किंग्स की कप्तानी छोड़ी थी तो उनकी जगह ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा को टीम का कप्तान बनाया गया था। हालांकि, जडेजा के नेतृत्व में इस सीजन CSK का प्रदर्शन बिल्कुल भी अच्छा नहीं रहा और यहां तक ​​​​कि आईपीएल 2022 में बतौर खिलाड़ी भी जडेजा का प्रदर्शन बेहद निराशानजक रहा है। शायद इन्हीं कारणों से जडेजा ने बीच आईपीएल में टीम की कप्तानी छोड़ दी।

बाद में, कप्तानी की कमान एक बार फिर से महान कप्तान धोनी को सौंपी गई और उसी फैसले की क्रिकेट जगत के कई बड़े नामों ने सराहना की। जडेजा के इस बड़े फैसले को ग्रीम स्वान और भारत के पूर्व मुख्य कोच रवि शास्त्री का भी समर्थन मिला। स्वान ने कहा कि ऑलराउंडर के लिए यह स्वीकार करना कि कप्तानी उनके बस की बात की नहीं है यह उनकी ईमानदारी को दर्शाता है और वह इसके साथ सहज नहीं हैं।

ग्रीम स्वान ने की रवींद्र जडेजा के फैसले की तारीफ

पूर्व इंग्लिश क्रिकेटर ने यह भी कहा कि कभी-कभी मेल ईगो लोगों को चीजों को आसानी से स्वीकार करने की अनुमति नहीं देता है लेकिन जडेजा ने ऐसा किया और यह सराहनीय है। स्वान ने स्टार स्पोर्ट्स पर कहा कि, “हम सभी की कुछ पसंदीदा टीम होती हैं, जिनके खिलाफ हमें खेलना पसंद होता है। सीएसके ने आरसीबी के खिलाफ पहले अच्छा प्रदर्शन किया है। यह जडेजा के लिए बड़ी बात है कि उन्होंने इस बात को स्वीकार किया कि कप्तानी उनके बस की बात नहीं है।”

उन्होंने आगे कहा, ‘आपके अंदर की मेल ईगो आपको यह कहने से रोकती है। तो उनका ऐसा करना और धोनी को वापस कप्तानी देना बहुत बड़ी बात है। सीएसके के लिए यह अच्छी चीज है।” वहीं शास्त्री ने कहा कि, जडेजा का बेबाकी से यह कहना कि कप्तानी मेरे बस की नहीं बड़ी बात है।

शास्त्री ने कहा कि, “जडेजा ने जिस तरह से बताया कि वो कप्तानी नहीं संभाल सकते हैं वो बड़ी बात है। यह कुछ ऐसा है जिसकी मुझे आदत नहीं है। उन्होंने किसी भी स्तर पर कप्तानी नहीं की है। मुझे लगता है कि हम एक अलग क्रिकेटर देखेंगे। वह जो चाहता है वह कर सकता है, कप्तान होने की जिम्मेदारी खत्म हो गई है और अब वो तीनों विभाग अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं।”