अगर नहीं निकले पुजारा-रहाणे के बल्ले से रन तो अगले टेस्ट मैच में हो जाएगी टीम से छुट्टी - क्रिकट्रैकर हिंदी

अगर नहीं निकले पुजारा-रहाणे के बल्ले से रन तो अगले टेस्ट मैच में हो जाएगी टीम से छुट्टी

पिछले 12 महीने में पुजारा और रहाणे में से किसी के बल्ले से शतक नहीं निकला है।

Ajinkya Rahane and Cheteshwar Pujara
Ajinkya Rahane and Cheteshwar Pujara. (Photo Source: Getty Images)

भारत के पूर्व विकेटकीपर दिनेश कार्तिक को उम्मीद है कि अगर चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे की जोड़ी जल्दी बड़ी पारी नहीं खेल पाती है तो कोच राहुल द्रविड़ को आने वाले समय में इन दोनों खिलाड़ियों को लेकर कुछ कठोर फैसले लेने पड़ सकते हैं। बता दें कि रहाणे और पुजारा पिछले कुछ समय से लगातार खराब फॉर्म से जूझ रहे हैं और एक-एक रन के लिए तरसते हुए दिखे हैं।

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में बुरी तरह से फ्लॉप होने के बाद भी हेड कोच द्रविड़ ने उन दोनों पर भरोसा दिखाया और उन्हें जोहान्सबर्ग टेस्ट में मौका दिया। हालांकि इसके बावजूद दोनों बल्लेबाज दूसरे टेस्ट की पहली पारी में रन बनाने में असफल रहे। पुजारा जहां तीन रन बनाकर आउट हुए वहीं रहाणे ने अपने टेस्ट करियर का पहला गोल्डन डक दर्ज किया।

राहुल द्रविड़ को लेने होंगे कुछ बड़े फैसले- दिनेश कार्तिक

क्रिकबज से बात करते हुए कीपर-बल्लेबाज कार्तिक ने कहा कि अगले टेस्ट में दोनों में से किसी एक को विराट कोहली के लिए जगह बनानी होगी। उन्होंने कहा कि उन्हें दी गई लंबी रस्सी “धीरे-धीरे जल रही है”। तमिलनाडु के क्रिकेटर ने इस तथ्य की ओर भी इशारा किया कि भारत के नंबर तीन बल्लेबाज पुजारा ने तीन साल में कोई शतक नहीं बनाया है।

दिनेश कार्तिक ने कहा कि, “पुजारा को तीसरे नंबर पर काफी मौके दिए गए हैं और अजिंक्य रहाणे के साथ भी वही चीज है। इन दोनों को ही अपनी जगह के बारे में पता है। ऐसे में अगर विराट कोहली वापसी करते हैं तो फिर इनमें से किसी एक को प्लेइंग इलेवन से बाहर होना होगा। मुझे लगता है कि राहुल द्रविड़ कुछ कड़े फैसले ले सकते हैं। अगर उन्हें इन दोनों खिलाड़ियों को ड्रॉप करना पड़ा तो वो पीछे नहीं हटेंगे, क्योंकि काफी समय से इन्हें मौका मिल रहा है।”

कार्तिक ने ये भी कहा कि, “जब राहुल द्रविड़ अपने करियर के अंतिम छोर पर थे, तब पुजारा ने नंबर तीन का जिम्मा संभाला था, जिससे द्रविड़ पर अपनी जगह वापस लेने का दबाव पड़ा था। जाहिर है, इतिहास खुद को दोहराता है। मुझे लगता है कि राहुल द्रविड़ को कुछ मुश्किल फैसले लेने होंगे।”