ऋषभ पंत को इस पूर्व इंग्लिश कप्तान ने दिया फॉर्म में वापसी का जादूई मंत्र - क्रिकट्रैकर हिंदी

ऋषभ पंत को इस पूर्व इंग्लिश कप्तान ने दिया फॉर्म में वापसी का जादूई मंत्र

ऋषभ पंत के बल्ले से इस सीरीज की पांच पारियों में मात्र 87 रन आए हैं।

Rishabh Pant. (Photo by Alex Davidson/Getty Images)
Rishabh Pant. (Photo by Alex Davidson/Getty Images)

इंग्लैंड और भारत के बीच खेली जा रही टेस्ट सीरीज में भारतीय टीम का मध्यक्रम सबसे कमजोर नजर आ रहा है। टीम के सबसे धाकड़ बल्लेबाज और विकेटकीपर ऋषभ पंत भी इस सीरीज में अब तक कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाए हैं। पिछले एक साल में पंत का करियर एक अलग मुकाम पर पहुंच चुका है। कई मौकों पर उन्होंने अपने दम पर टीम को मुश्किल हालात से बाहर निकाला है।

ऑस्ट्रेलिया दौरे पर भारत ने गाबा के मैदान पर मेजबान टीम को हराया था, जहां 324 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए पंत ने 89 रनों की पारी खेलकर टीम को जीत की दहलीज तक पहुंचाने में सफल रहे थे। भारतीय टीम ने उस सीरीज को 2-1 से अपने नाम किया था जिसका श्रेय काफी हद तक ऋषभ पंत को जाता है। ऑस्ट्रेलिया के उस दौरे पर पंत ने 5 पारियों में 68.50 की औसत से 274 रन बनाए थे। हालांकि, मौजूदा सीरीज में पंत का प्रदर्शन बेहद निराशाजनक रहा है और उनकी फॉर्म को देखकर इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने उन्हें कुछ सलाह दी है।

माइकल वॉन ने पंत को दिया कौन सा सुझाव?

पूर्व इंग्लिश कप्तान माइकल वॉन ने कहा है कि पंत को अत्यधिक आक्रमक होने की कोई जरूरत नहीं है। उन्होंने ये भी कहा कि अगर भारतीय टीम में अश्विन को जगह मिलती है तो उन्हें अपने बल्लेबाजी क्रम में भी बदलाव करना चाहिए। माइकल वॉन ने कहा कि, “अगर मैं कप्तान होता तो अश्विन को शामिल करने के बाद ऋषभ पंत को नंबर 7 पर बल्लेबाजी करवाता और अश्विन को 8 नंबर पर भेजता।”

उन्होंने आगे कहा कि, “उन्हें अधिक आक्रमक होने की जरूरत नहीं है। वो यहां पर तकनीक से खेलने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन उन्हें ऐसा करने की जरूरत नहीं है। वो ज्यादा बहतर खिलाड़ी तब होते हैं जब वे क्रॉस-बैटेड शॉट्स खेलते हैं, या क्रीज से बाहर निकलकर आक्रामक अंदाज में बल्लेबाजी करते हैं।”

सीरीज में अब तक ऋषभ पंत का प्रदर्शन

*ऋषभ पंत ने अभी तक इस सीरीज में किया है अपने बल्ले से निराश।
*अब तक खेले गए तीन मैचों की पांच पारियों में बनाए हैं मात्र 87 रन।
*सीरीज में पंत का औसत महज 17.40 का है।