पूर्व दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाज ने डिविलियर्स को लेकर किया बड़ा खुलासा - क्रिकट्रैकर हिंदी

पूर्व दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाज ने डिविलियर्स को लेकर किया बड़ा खुलासा

खाया जोंडो के इस खुलासे के बाद एकबार फिर से दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेट में विवाद की स्थिति देखने को मिल सकती है।

South African player Khaya Zondo

दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाज खाया जोंडो ने पूर्व कप्तान एबी डिविलियर्स के लेकर चौंकाने वाला खुलासा किया है। जोंडो ने सामाजिक न्याय और राष्ट्रनिर्माण की सुनवाई के दौरान एक बड़ा खुलासा करते हुए कहा कि 2015 की वनडे सीरीज के दौरान जब निर्णायक मुकाबले में भारत के खिलाफ उनका चयन नहीं हुआ, तब उन्होंने एबी डिविलियर्स के लिए सारा सम्मान खो दिया।

जोंडो ने डिविलियर्स पर क्या आरोप लगाए?

जोंडो की जगह डीन एल्गर को टीम में जगह देने पर दक्षिण अफ्रीका की टीम में एक नाटकीय मोड़ आ गया। इसके बाद टीम के इस अश्वेत खिलाड़ी ने दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेट बोर्ड को एक चिट्ठी लिखकर अपनी नाराजगी जाहिर की।

जोंडो अफ्रीकी टीम का अहम हिस्सा थे। जब वनडे सीरीज 2-2 की बराबरी पर थी, तब उन्हें इस श्रंखला के निर्णायक और अंतिम मैच में प्लेइंग 11 से बाहर बैठना पड़ा था। उनकी जगह डीन एल्गर को मौका मिला था जो सिर्फ टेस्ट मैच खेलने के लिए भारत आए थे।

लोकपाल कार्यालय में गवाही ने जोंडो ने क्या कहा?

“कप्तान (डिविलियर्स) ने मुझे टीम के बाकी सदस्यों से दूर साइड में बुलाया और मुझसे कहा कि मुझे नहीं खेलना चाहिए। वह खुद को समझाने की कोशिश कर रहे थे और वह निर्णय की पूरी जिम्मेदारी ले रहे थे।” जोंडो ने ट्रांसफॉर्मेशन ओम्बड्समैन, एड को अपनी तैयार प्रस्तुति से पढ़ा।

“मुझे याद है जब उन्होंने मुझे खुद समझाया, एक कप्तान के रूप में उनके लिए मैंने सभी सम्मान खो दिया। जिसे मैंने अपने क्रिकेटिंग हीरो के रूप में देखा, मुझे विश्वास नहीं हो रहा था कि यह आदमी मेरे लिए खुद को सही ठहराने की कोशिश कर रहा था, और ऐसा लगा कि मुझे यह निर्णय स्वीकार करना चाहिए क्योंकि निर्णय उन्हीं की ओर से आया है।”

जोंडो ने कहा, “मैंने बाकी दिनों के लिए मानसिक रूप से बंद कर दिया और मैंने खुद को टीम से अलग कर लिया क्योंकि यह स्पष्ट था कि मैं यह नहीं चाहता था।” “स्विच ऑफ करने से मुझे जो कुछ भी हो रहा था, उससे निपटने में मदद मिली। सबसे कठिन हिस्सा उन खिलाड़ियों को देखना था जो मुझसे आगे चुने गए थे और उन्हें भारत में विश्व स्तर पर दक्षिण अफ्रीका के लिए चमकने का मौका मिला और खेलने और संभावित रूप से प्रभावित करने और भविष्य के आईपीएल के अवसर प्राप्त करने का मौका मिला।” जोंडो ने 22 जुलाई को निजी रूप से लोकपाल कार्यालय में अपनी गवाही प्रस्तुत की और उनसे अनुरोध किया कि उसे सार्वजनिक की जाए।

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व चयनकर्ता ने इस मुद्दे पर क्या कहा?

हालांकि, इसके एक दिन पहले ही अफ्रीका के पूर्व चयनकर्ता हुसैन मैनक ने घटना के बारे में गवाही दी थी। अपनी गवाही में उन्होंने स्वीकार किया कि उन्हें इस खिलाड़ी का समर्थन ना करने पर पछतावा है। उन्होंने गुरुवार को अपनी गवाही के दौरान कहा कि “मैं पीछे मुड़कर देखता हूं और मुझे लगता है कि मैंने कप्तान (एबी डिविलियर्स) के सामने हार मान ली और शायद मुझे मजबूती से खड़ा होना चाहिए था।”

“मैंने महसूस किया कि उस स्तर पर मेरे मैदान पर खड़े होने के कारण टीम के लिए चीजें और खराब हो जातीं। क्योंकि अगर वह खेला, तो मैंने जोर देकर कहा कि वह खेले, और वह रन नहीं बनाए और टीम हार गई, मुझे लगता है कि इसके लिए उन्हें दोषी ठहराया जाएगा। तो वो सारी बातें मेरे दिमाग में चल रही थीं। मैं आज भी पीछे मुड़कर देखता हूं और सोचता हूं; क्या मुझे मजबूत होना चाहिए था? क्या मुझे अपना पक्ष रखना चाहिए था?”

हुसैन ने डिविलियर्स के साथ अपनी बातचीत का खुलासा करते हुए कहा कि जिसे भी यह लगता है कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जोंडो का अनुभव कम है, वह गलत है। मैनक के अनुसार, डिविलियर्स अपने अंतर्राष्ट्रीय अनुभव के वजह से टीम में डेविड मिलर को जगह देना चाहते थे।