स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या इस बड़े घरेलु टूर्नामेंट से भी हुए बाहर, सामने आई ये वजह - क्रिकट्रैकर हिंदी

स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या इस बड़े घरेलु टूर्नामेंट से भी हुए बाहर, सामने आई ये वजह

कुछ रिपोर्ट के मुताबिक हार्दिक पांड्या फिलहाल रिहैबिलिटेशन की दौर से गुजर रहे हैं।

Hardik Pandya
Hardik Pandya. (Photo Source: Twitter)

टीम इंडिया के स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या ने घरेलू टूर्नामेंट विजय हजारे ट्रॉफी में खेलने से इनकार कर दिया है। यह टूर्नामेंट 8 दिसंबर से शुरू होने वाला है। बताया जाता है कि उन्हें अपनी फिटनेस हासिल करने के लिए एक व्यापक रिहैब कार्यक्रम से गुजरना पड़ रहा है। इसी वजह से वह न्यूजीलैंड के खिलाफ खेले गए घरेलु सीरीज का भी हिस्सा नहीं थे।

हालांकि पांड्या मुंबई में अपना रिहैब कर रहे हैं, लेकिन उन्हें राष्ट्रीय चयन के लिए अंतिम मंजूरी लेने के लिए राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (NCA) में जाना होगा। पहले, भारतीय खिलाड़ी फिटनेस प्रमाण पत्र प्राप्त करने के लिए NCA जाते थे, लेकिन जब से क्रिकेट निदेशक राहुल द्रविड़ ने कार्यभार संभाला है, उन्होंने फैसला किया कि खिलाड़ियों को एनसीए में कोचों के सामने अपनी फिटनेस साबित करनी होगी।

बड़ौदा क्रिकेट संघ के वरिष्ठ अधिकारी ने हार्दिक पांड्या को लेकर दी अहम जानकरी

इसको लेकर बड़ौदा क्रिकेट संघ के बड़े अधिकारी ने इंडियन एक्सप्रेस के हवाले से कहा है कि, “बड़ौदा क्रिकेट संघ (BCA) ने विजय हजारे ट्रॉफी के लिए उपलब्धता के बारे में पूछते हुए हार्दिक पांड्या को ईमेल भेजा था। पिछले तीन साल में उन्होंने बमुश्किल ही बड़ौदा की ओर से खेला है। हालांकि, उन्होंने एक पंक्ति में जवाब दिया है कि वह अभी मुंबई में रिहैबिलिटेशन की दौर से गुजर रहे हैं।”

हार्दिक पंड्या की चोट के बारे में पूछने पर उस अधिकारी ने कहा कि, “BCA को भी इसकी जानकारी नहीं है। समझा जा रहा है कि वह अपनी कमर को मजबूत करने का प्रयास कर रहा है जो 2019 में सर्जरी के बाद से काफी अच्छी स्थिति में नहीं है।”

यह भी बताया गया है कि अगर ऑलराउंडर घरेलू टूर्नामेंट नहीं खेलता है तो उसे सफेद गेंद के खेल के लिए भारतीय टीम में चयन के लिए उपलब्ध नहीं माना जाएगा। सूत्र ने आगे कहा कि, “मौजूदा राष्ट्रीय चयन समिति ने सभी खिलाड़ियों से कहा है कि जो लोग भारतीय टीम में नहीं हैं, उन्हें वापस जाकर घरेलू क्रिकेट, विजय हजारे और रणजी ट्रॉफी में खेलना होगा।”