विराट कोहली के गुस्से से डरे दक्षिण अफ्रीकी ब्रॉडकास्टर, DRS को लेकर दी सफाई - क्रिकट्रैकर हिंदी

विराट कोहली के गुस्से से डरे दक्षिण अफ्रीकी ब्रॉडकास्टर, DRS को लेकर दी सफाई

ऑन-फील्ड अंपायर ने एल्गर को एलबीडब्ल्यू आउट दिया था लेकिन वो DRS लेकर अपनी विकेट बचाने में कामयाब रहे।

Dean Elgra’s review. (Photo Source: Twitter)
Dean Elgra’s review. (Photo Source: Twitter)

भारत के खिलाफ दक्षिण अफ्रीका के तीसरे टेस्ट के तीसरे दिन के खेल के दौरान डीन एल्गर का विवादास्पद DRS कॉल ने काफी हंगामा खड़ा कर दिया है। तीसरे दिन प्रोटियाज के रन-चेस के दौरान, ऑन-फील्ड अंपायर मरे इरास्मस ने एल्गर को रवि अश्विन की गेंद पर एलबीडब्ल्यू आउट करार दिया, क्योंकि गेंद बल्लेबाज के घुटने के नीचे के लगी थी।

हालांकि उन्होंने डीआरएस का इस्तेमाल किया, लेकिन घरेलू टीम के कप्तान ने डगआउट की तरफ चलना शुरू कर दिया था। लेकिन फिर, रीप्ले से पता चला कि गेंद स्टंप्स को काफी दूर से मिस कर रही थी। इस पूरी कहानी ने मैदान पर भारतीय खिलाड़ियों, खासकर कप्तान विराट कोहली को आक्रोशित कर दिया।

इस पूरे मामले को देखने के बाद विराट कोहली ब्रॉडकॉस्टर्स की ओर इशारा करते हुए कहा था कि अपनी टीम की ओर भी ध्यान दिया करो, जब वो लोग गेंद को चमकाने में लगे रहते हैं। केवल विपक्षी टीम पर फोकस करना बंद करो। हर समय लोगों को पकड़ने की कोशिश करते लगते हो।”

कोहली के आलावा टीम के उपकप्तान केएल राहुल ने भी ब्रॉडकास्टर की ओर निशाना साधते हुए कुछ कहा था। इस बीच, श्रृंखला के आधिकारिक प्रसारक सुपरस्पोर्ट ने डीआरएस कॉल पर स्पष्टीकरण दिया है। उन्होंने एक GIF को दिखाया। उन्होंने सुझाव दिया कि केप टाउन में न्यूलैंड्स की पिच पर उछाल ने निर्णय में एक प्रमुख भूमिका निभाई।

सुपरस्पोर्ट ने जीआईएफ को कैप्शन दिया और लिखा, “पिच की उछाल ने डीन एल्गर के सफल रिव्यू में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।” हालांकि यह बात भी सच है कि तीसरे दिन के खेल के दौरान पिच बहुत अजीब बर्ताव कर रही थी जिस वजह से बल्लेबाजों को बल्लेबाजी करने में काफी दिक्कत हो रही थी।

यहां देखिए DRS को लेकर ब्रॉडकास्टर का वह ट्वीट

इस बीच, कोहली को मैदान पर अपने इस व्यवहार के लिए गौतम गंभीर से भी काफी कुछ सुनने को मिला। भारतीय कप्तान द्वारा स्टंप माइक पर अपनी नाराजगी व्यक्त करने के बाद गंभीर ने कोहली को ‘अपरिपक्व’ करार दिया। उन्होंने कहा कि, “कोहली बहुत अपरिपक्व हैं। किसी भारतीय कप्तान के लिए स्टंप्स में ऐसा कहना सबसे बुरा है। ऐसा करने से आप कभी भी युवाओं के आदर्श नहीं होंगे।”