इंग्लैंड टेस्ट टीम के नए कप्तान बेन स्टोक्स के नेतृत्व में खेलने पर आखिर क्यों खुश हैं स्पिन गेंदबाज जैक लीच - क्रिकट्रैकर हिंदी

इंग्लैंड टेस्ट टीम के नए कप्तान बेन स्टोक्स के नेतृत्व में खेलने पर आखिर क्यों खुश हैं स्पिन गेंदबाज जैक लीच

बेन स्टोक्स की कप्तानी में खेलने में मजा आ रहा है। उनकी सोच आक्रामक क्रिकेट खेलने की रहती है: जैक लीच

Jack Leach
Jack Leach. (Photo Source: BCCI)

इंग्लैंड के बाएं हाथ के स्पिन गेंदबाज जैक लीच ने कहा है कि बेन स्टोक्स की कप्तानी में खेलने में उन्हें काफी अच्छा लग रहा है। साथ ही उन्होंने स्टोक्स के आक्रमणकारी मानसिकता की भी जमकर तारीफ की है।

बता दें, न्यूजीलैंड के खिलाफ तीसरे और आखिरी टेस्ट मुकाबले में लीच ने दोनों पारियों को मिलाकर 10 विकेट (दोनो पारियों में 5-5 विकेट) झटके हैं। दूसरी पारी में उन्होंने ट्रेंट बोल्ट का विकेट लेकर अपने 10 विकेट पूरे किए। इंग्लैंड को जीत के लिए 286 रन चाहिए। चौथे दिन का खेल खत्म होने तक इंग्लैंड ने 2 विकेट खोकर 183 रन बना लिए थे। उनको जीत के लिए अब 113 रन और बनाने हैं।

कमाल के कप्तान हैं बेन स्टोक्स: जैक लीच

स्काई स्पोर्ट्स से बात करते हुए लीच ने कहा कि, ‘बेन स्टोक्स की कप्तानी में खेलने में मजा आ रहा है। उनकी सोच आक्रामक क्रिकेट खेलने की रहती है। उन्होंने इस टेस्ट सीरीज में कमाल की कप्तानी की है। स्टोक्स को अपने और खिलाड़ियों के ऊपर पूरा भरोसा रहता है। मैंने ऐसा अनुभव पहले कभी नहीं किया है और ये मेरे लिए काफी स्पेशल समय है।

बता दें, इंग्लैंड ने इस टेस्ट सीरीज के पहले दो मुकाबले जीतकर सीरीज अपने नाम कर ली है। तीसरा और आखिरी टेस्ट मुकाबला हेडिंग्ले, लीड्स में खेला जा रहा है।

जैक लीच ने मुझे गलत साबित किया: मार्क बुचर

इंग्लैंड के पूर्व बल्लेबाज मार्क बुचर ने जैक लीच की जमकर तारीफ की है। उन्होंने कहा है कि, ‘वेस्टइंडीज के खिलाफ लीच अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन में नहीं दिखे थे लेकिन इस सीरीज में उन्होंने बेहतरीन गेंदबाजी की है।

उन्होंने मुझे और तमाम लोगों को गलत साबित किया है। यहां उनकी गेंद काफी बेहतरीन तरीके से स्पिन और ड्रिफ्ट हुई है। मुझे पूरी उम्मीद है कि आने वाले समय में उनकी गेंदबाजी में और भी निखार आएगा।

वहीं जीतन पटेल ने भी जैक लीच की जमकर तारीफ की है। उन्होंने कहा है कि मुझे पता था बहुत जल्द हम लोग लीच के इस प्रदर्शन को देखेंगे। लीच काफी समय से अपनी चीजों को सही करने में लगे हुए थे और वो लगातार अभ्यास करते थे। उन्हें मालूम है कि अगर उन्हें टेस्ट क्रिकेट मुकाबलों में सफल होना है तो उन्हें जमकर मेहनत करना पड़ेगी।