IPL 2022: "उंगली पकड़कर चलना..."- खराब कप्तानी के कारण रवींद्र जडेजा और एमएस धोनी के बीच पड़ी दरार! - क्रिकट्रैकर हिंदी

IPL 2022: “उंगली पकड़कर चलना…”- खराब कप्तानी के कारण रवींद्र जडेजा और एमएस धोनी के बीच पड़ी दरार!

CSK की कमान वापस लेते ही रवींद्र जडेजा के लिए एमएस धोनी के बदले तेवर!

MS Dhoni and Ravindra Jadeja (Photo Source: Twitter)
MS Dhoni and Ravindra Jadeja (Photo Source: Twitter)

रवींद्र जडेजा के चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) के कप्तान के रूप में अपने पद से हटने के बाद एमएस धोनी ने फ्रेंचाइजी की कमान जारी आईपीएल 2022 (IPL 2022) के बीच में अपने हाथों में फिर से ले ली हैं।

एमएस धोनी चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) के जारी आईपीएल 2022 (IPL 2022) में पिछले मुकाबले में 1 मई को सनराइजर्स हैदराबाद (SRH) के खिलाफ बतौर कप्तान नजर आए और टीम की कमान वापस लेते ही, दिग्गज क्रिकेटर ने गत विजेता टीम को 13 रनों की जीत भी दिला दी।

आपको बता दें, चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) ने जारी आईपीएल 2022 (IPL 2022) में अब तक अपने खेले 9 मैचों में 6 गवां दिए है, और रवींद्र जडेजा की कप्तानी में फ्रेंचाइजी को केवल 2 मैचों में जीत नसीब हुई, जिससे साफ नजर आता हैं कि अनुभवी ऑलराउंडर वास्तव में कप्तानी की चुनौती को स्वीकार नहीं कर पाए।

एमएस धोनी ने रवींद्र जडेजा के कप्तानी छोड़ने के फैसले के बारे में बात की

एमएस धोनी ने सनराइजर्स हैदराबाद (SRH) पर सीएसके (CSK) की 13 रनों की जीत के बाद रवींद्र जडेजा के कप्तानी छोड़ने के फैसले के पीछे के कारण का खुलासा किया है। महान और करिश्माई कप्तान ने स्वीकार किया कि अतिरिक्त जिम्मेदारी के कारण भारतीय ऑलराउंडर का प्रदर्शन काफी प्रभावित हो रहा था।

एमएस धोनी ने पोस्ट-मैच प्रेजेंटेशन सेरेमनी में कहा: “मुझे लगता है कि रवींद्र जडेजा को पता था कि पिछले सीजन में वह इस साल कप्तानी करेंगे। पहले दो मैचों के लिए, मैंने उनके काम की देखरेख की और बाद में उन्हें बेहतर होने के लिए छोड़ दिया। मैंने जोर देकर कहा कि वह अपने फैसले और उनके लिए जिम्मेदारी खुद लेगा। एक बार जब आप कप्तान बन जाते हैं, तो इसका मतलब है कि बहुत सारी मांगें इस जिम्मेदारी के साथ आती हैं।

लेकिन जैसे-जैसे कार्य बढ़ते गए, इससे उनके दिमाग पर असर पड़ा। मुझे लगता है कि कप्तानी ने उनकी तैयारी और प्रदर्शन पर बोझ डाला  है। वह जानता था और उसके पास तैयारी के लिए पर्याप्त समय था, महत्वपूर्ण यह है कि आप चाहते हैं कि वह टीम का नेतृत्व करे और मैं चाहता था कि बदलाव हो। सीजन के अंत में, आप नहीं चाहते कि वह महसूस करे कि कप्तानी किसी और ने की थी और मैं सिर्फ टॉस के लिए जा रहा हूं।”

रवींद्र जडेजा को उंगली पकड़कर चलना नहीं सिखाया जा सकता

कप्तान ने आगे कहा: “तो यह एक क्रमिक परिवर्तन था। चम्मच से खिलाना वास्तव में कप्तान की मदद नहीं करता है, मैदान पर आपको वे महत्वपूर्ण निर्णय लेने होते हैं, और आपको उन निर्णयों की जिम्मेदारी लेनी होती है। भले ही आप कप्तानी से मुक्त हो जाएं और आप अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर रहे हैं, तो हम खुश हैं और हम यहीं चाहते हैं। हम एक महान फील्डर को भी खो रहे थे, हम एक गहरे मिड-विकेट फील्डर के लिए संघर्ष कर रहे हैं, और फिर हमने 17-18 कैच छोड़े हैं, और यह चिंता का विषय है।”