मुश्किलों को दी मात और चेतन सकारिया बन गए असली 'खिलाड़ी' - क्रिकट्रैकर हिंदी

मुश्किलों को दी मात और चेतन सकारिया बन गए असली ‘खिलाड़ी’

घरेलू क्रिकेट में कौन देता है चेतन का सबसे ज्यादा साथ?

Chetan Sakariya (Photo:Rajasthan Royals)
Chetan Sakariya (Photo:Rajasthan Royals)

चेतन सकारिया, ये वो नाम है जिसने संघर्षों को मात देकर सफलता के शिखर पर अपना परचम फहराया है, बेहद कम ऐसे खिलाड़ी होते है जो मुश्किलों में भी डटकर खड़े रहते है ऐसा ही एक नाम इस खिलाड़ी का है। अपनी रफ्तार से बल्लेबाजों को परेशान करने वाला ये तेज गेंदबाज अब टीम इंडिया की भी जर्सी पहन चुका, लेकिन यहां तक पहुंचने से पहले चेतन ने काफी मुश्किल दौर देखा है।

चेतन के लिए IPL की नीलामी ने सब कुछ बदल दिया

हाल ही में चेतन सकारिया ने CricTracker को एक खास इंटरव्यू दिया है, जिसमें इस गेंदबाज ने अपनी जीवन से जुड़ी काफी बातें साझा की है। घरेलू क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन करने वाले चेतन का जीवन IPL के बाद से पूरा बदल चुका है, जहां ये खिलाड़ी लीग के पहले फेज के बाद टीम इंडिया के लिए भी डेब्यू कर चुका है। जहां अपने इसी शानदार सफर को चेतन ने साझा किया है।

चेतन सकारिया के इंटरव्यू के कुछ अंश

1.टीम इंडिया में चयन के समय आप कहां थे और क्या कर रहे थे?

मैं चेन्नई में था और राजस्थान रॉयल्स के लिए ट्रेनिंग कर रहा था, उस दौरान ही मेरा टीम इंडिया में चयन हुआ था। ये जानकारी मुझे मेरे एक पत्रकार दोस्त ने फोन के जरिए दी थी, लेकिन मुझे विश्वास नहीं हो रहा था। जिसके बाद मैंने BCCI की साइट पर जाकर मेरा नाम देखा और फिर मुझे यकीन हुआ।

2. जब आईपीएल की नीलामी हुई तो आप बस में यात्रा कर रहे थे, उस बारे में बताए थोड़ा

मेरे लिए ये एक खास मौका था, जब रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर और रॉयल्स मेरे लिए बोली लगा रहे थे। बोली लगाने के वक्त मैं सौराष्ट्र टीम की बस में था औ सभी मुझे चीयर कर रहे थे, यह मजेदार और रोमांचक था। आपको बता दें कि चेतन को राजस्थान ने 1 करोड़ से ज्यादा की रकम में खरीदा था।

3. राहुल द्रविड़ के साथ बातचीत करने का आपका अनुभव कैसा रहा?

एक महान क्रिकेटर होने के बावजूद, वह युवा खिलाड़ियों पर बहुत ध्यान देते हैं। वह खेल में शामिल रहते हैं और क्रिकेटरों के प्रदर्शन पर नजर रखते हैं। उन्होंने मुझसे मेरे आत्मविश्वास के स्तर और मेरे विचारों की स्पष्टता के बारे में बात की। यह एक खुशी की बात थी जब भारतीय क्रिकेट के इतने बड़े व्यक्ति ने मेरी प्रशंसा की।

4. भारतीय खिलाड़ियों के साथ ड्रेसिंग रूम साझा करने का अनुभव कैसा रहा चेतन?

उस समय मेरे लिए यह एक फैनबॉय मोमेंट था, मैंने टीम इंडिया के बाकी गेंदबाजों से काफी कुछ सीखा है और मेरी योजना ये ही थी। साथ ही इस दौरान मैंने अपने खेल में काफी सुधर भी किया।

5. भुवनेश्वर कुमार के साथ खेल कर कैसा लगा?

वह एक बहुत ही सामान्य व्यक्ति हैं और काफी रचनाशील हैं। मुझे खुद उनके जैसा गेंदबाज बनना है, साथ ही वो काफी शांत रखते हैं जो उन्हें अलग बनाता है।

6. जल्द आप नया घर बनवाने वाले हैं, थोड़ा उसके बारे में जानकारी दें

जब मैंने अपने नए घर का सपना देखा था, तो मुझे बहुत आसान लगा कि मुझे जो भी पैसा मिलेगा, उससे मुझे घर मिल जाएगा। लेकिन जब से मैंने घर देखना शुरू किया है, यह दिन पर दिन और मुश्किल होता जा रहा है। अक्सर हमें वो नहीं मिलता जो हम चाहते हैं, पिछले आठ से 10 महीने से मैं लगातार घरों की तलाश में हूं। यह एक बहुत ही कठिन प्रक्रिया है और मुझे अभी तक अपने सपनों का घर नहीं मिला है।

7. आपको अपनी रणजी टीम के खिलाड़ियों से कितना सहयोग मिलता है?

जब आप किसी सीनियर टीम में पहुंचते हैं, तो आपको काफी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। ऐसा नहीं है कि आपका करियर ग्राफ केवल ऊपर की दिशा में ही जाता है, कई बार आपकी लय गड़बड़ा जाती है। उस समय आपको अपने खेल को बेहतर बनाने के लिए कुछ मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है। सीनियर्स ने मेरी बहुत मदद की है, खासकर जयदेव उनादकट भाई ने, मैदान पर उन्होंने मेरा आत्मविश्वास बढ़ाने में अहम भूमिका निभाई है।

8. विकेट लेने के बाद आपका जश्न बहुत ही अनोखा होता है।

इसे आमतौर पर Wakanda Forever सेलिब्रेशन कहा जाता है, यह मार्वल स्टूडियोज में एक सुपरहीरो फिल्म ब्लैक पैंथर्स से है। मैं सुपरहीरो फिल्मों का बहुत बड़ा फैन हूं और मैं Wakanda Black Panthers को काफी पसंद करता हूं।