महेला जयवर्धने की कौन सी प्रतिभा को देख हैरान हुए श्रीलंकाई कोच मिकी आर्थर ? - क्रिकट्रैकर हिंदी

महेला जयवर्धने की कौन सी प्रतिभा को देख हैरान हुए श्रीलंकाई कोच मिकी आर्थर ?

महेला जयवर्धने के पास क्रिकेट की शानदार समझ है: मिकी आर्थर

Mickey Arthur and Mahela Jayawardene. (Photo by Michael Steele-ICC/ICC via Getty Images)
Mickey Arthur and Mahela Jayawardene. (Photo by Michael Steele-ICC/ICC via Getty Images)

2014 में क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद महेला जयवर्धने ने कोचिंग में कदम रखा, जहां उन्होंने IPL में मुंबई इंडियंस और द हंड्रेड में सदर्न ब्रेव को खिताब दिलाते हुए बतौर कोच एक अच्छा ट्रैक रिकॉर्ड तैयार किया। जयवर्धने के अच्छे कोचिंग रिकॉर्ड को देखने के बाद श्रीलंका ने उन्हें टी-20 वर्ल्ड कप के लिए अपनी टीम का सलाहकार बनाया है।

जैसे ही महेला ने श्रीलंका की टीम का कमान संभाला, उन्होंने अविष्का फर्नांडो को टी-20 में चार नंबर पर बल्लेबाजी करने के लिए टीम मैनेजमेंट और मिकी आर्थर को मानाया। पिछले 22 टी-20 अंतरराष्ट्रीय में कोई अर्धशतक नहीं बनाने वाले अविष्का ने हाल ही में खेले गए चार अभ्यास मैचों में 83, 33, 62 और 61 रन बनाए, जिससे साफतौर पर जयवर्धने की काबिलियत का पता चलता है।

मिकी आर्थर ने टी-20 वर्ल्ड कप के पहले मुकाबले से पहले क्या कहा ?

श्रीलंका के कोच मिकी आर्थर ने टी-20 वर्ल्ड कप क्वालिफायर के पहले मैच से पहले cricket.com से कहा, “अविष्का नंबर चार पर बल्लेबाजी करने के लिए सहज है। हमने इसके लिए थोड़ा विचार किया, जिसके बाद महेला एक गेम प्लान के साथ आए। उन्होंने उसके आंकड़ों पर गौर किया और बाद में मुझे और दाशुन शनाका को भेजा। उससे ये बिल्कुल साफ हो गया कि चार नंबर अविष्का के लिए बिल्कुल फिट बैठता है। वह आने वाले मैचों ने निश्चित रूप से नंबर चार पर बल्लेबाजी करेंगे।”

मिकी आर्थर ने आगे कहा कि, “अविष्का के साथ हमें ये पता है कि 15 गेंदें खेलने के बाद उनका स्ट्राइक रेट 160 का हो जाता है। इससे पहले वह डॉट बॉल खेलकर खुद पर दबाव बना लेते हैं। इसलिए जब वह नंबर चार पर बल्लेबाजी करने के लिए आते हैं तो अधिकतर फील्डर पीछे रहते हैं जिससे उन्हें स्ट्राइक रोटेट करने में आसानी होती है।

आर्थर ने जमकर की महेला जयवर्धने की तारीफ

आर्थर ने अपनी बातचीत में महेला जयवर्धने की भी जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा, “महेला ने बहुत बड़ा योगदान दिया है। मैं उनके साथ काम करने के लिए बेहद उत्साहित था क्योंकि मैंने उनके साथ उस वक्त काम किया था जब वो फ्रेंचाइजी क्रिकेट खेल रहे थे। उस वक्त मैं इस खेल पर उनकी पकड़ को देखकर हैरान हो गया था। मुझे लगता है कि उसके पास गजब का क्रिकेट वाला दिमाग है।”