in ,

मेलबर्न टेस्ट में जीत के बाद भारत के इस खिलाड़ी को नज़रअंदाज़ किया गया? मैन ऑफ द मैच का हकदार कौन था

मैन ऑफ द मैच बुमराह को मिला

भारत ने ऑस्ट्रेलिया को मेलबर्न टेस्ट में 137 रनों से हराकर चार टेस्ट मैचों की सीरीज़ में 2-1 की बढ़त ले ली। भारतीय टीम ने खेल के हर विभाग में ऑस्ट्रेलिया से बेहरत प्रदर्शन किया और टेस्ट क्रिकेट में 150वीं जीत हासिल की।

जसप्रीत बुमराह ने पहली पारी में 33 रन देकर 6 विकेट लिए और दूसरी पारी में 53 रन देकर 3 विकेट लिए। इस तरह उन्होंने मैच में 86 रन देकर 9 विकेट हासिल किए। उन्हें इस प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ़ द मैच चुना गया।

इस मैच में पहली पारी में भारत ने 443/8 के स्कोर पर पारी घोषित की थी और इसमें चेतेश्वर पुजारा ने शतकीय पारी खेली थी। इस पारी ने भारतीय टीम को मैच में मज़बूत कर दिया और फिर बुमराह, मोहम्मद शमी, ईशांत शर्मा और रवींद्र जडेजा ने अपनी गेंदबाज़ी के दम पर ऑस्ट्रेलिया को चारों खाने चित कर दिया।

बुमराह को मैन ऑफ द मैच मिलने के बाद सोशल मीडिया पर कुछ पोस्ट आईं, जिनमें कहा जा रहा है कि पुजारा को मैन ऑफ द मैच मिलना चाहिए था, क्योंकि पहली पारी में शतक लगाकर मैच उन्होंने ने ही बनाया है। पुजारा के साथ नाइंसाफी हुई। जब बुमराह मैन ऑफ द मैच लेने के लिए आए तो पुजारा अन्य खिलाड़ियों के साथ दूर खड़े होकर तालियां बजा रहे थे।

बहरहाल, बुमराह के प्रदर्शन को नज़र अंदाज़ नहीं किया जा सकता। उन्हें मैन ऑफ द मैच चुनकर सही फैसला किया। पुजारा की पारी का भी बहुत महत्व है। जीत में सभी खिलाड़ियों का योगदान है।

दूसरी ओर ऑस्ट्रेलिया के नज़रिये से देखें तो पैट कमिंस ने गेंदबाज़ी करते हुए मैच में 9 विकेट लिए और बल्लेबाज़ी करते हुए दूसरी पारी में 22 और 63 रनों के स्कोर बनाए। मैन ऑफ द मैच का दावा तो कमिंस का भी मज़बूत था।

मेलबर्न में हार के बाद ऑस्ट्रेलिया में आया यह प्रतिभावान बल्लेबाज, सिडनी में भारत से होगी कड़ी टक्कर

मेलबर्न टेस्ट में यह विकेट बुमराह के नहीं बल्कि रोहित शर्मा के नाम पर रहा