लॉर्ड्स टेस्ट को लेकर इंग्लैंड को क्या सलाह दे रहे हैं माइकल वॉन? - क्रिकट्रैकर हिंदी

लॉर्ड्स टेस्ट को लेकर इंग्लैंड को क्या सलाह दे रहे हैं माइकल वॉन?

माइकल वॉन चाहते हैं कि इंग्लैंड लॉर्ड्स टेस्ट के लिए कुछ महत्वपूर्ण बदलाव करे

Michael Vaughan
Michael Vaughan. (Photo by Philip Brown/Getty Images)

भारत और इंग्लैंड के बीच खेले गए पहले टेस्ट मैच में मेजबान टीम की शुरुआत अच्छी नहीं रही। पहले टेस्ट में इंग्लैंड बैकफुट पर दिखी। अगर पांचवें दिन बारिश नहीं हुई होती तो भारत शायद टेस्ट सीरीज में 1-0 की बढ़त बना चुका होता। हालांकि, दोनों टीम फिलहाल लॉर्ड्स में है और दूसरे टेस्ट मैच की तैयारी कर रही हैं। इसी बीच, पूर्व इंग्लिश कप्तान माइकल वॉन ने इंग्लैंड की टीम को दूसरे टेस्ट मैच के लिए कुछ बदलाव करने का सुझाव दिया है। वॉन ने कहा कि अगर ओली पॉप फिट हैं तो उन्हें टीम में डेन लॉरेंस की जगह शामिल किया जाना चाहिए। उन्होंने जैक क्रॉली को कुछ समय के लिए क्रिकेट से दूर रहने की सलाह दी है।

वॉन ने यह भी कहा कि वह डेविड मलान को एक एसओएस भेजेंगे और उनको शीर्ष क्रम में बल्लेबाज़ी करने के लिए कहेंगे। इसके बाद उन्होंने हसीब हामिद को डोम सिबली के जगह टीम में शामिल करने की बात की।

वॉन ने कई बदलाव करने का दिया सुझाव

वॉन ने अपने बयान में कहा कि “अगर ओली पॉप फिट हैं तो उन्हें निश्चित रूप से टीम में होना चाहिए और मुझे लगता है कि अगले टेस्ट मैच में वह डेन लॉरेंस की जगह टीम में होंगे। जैक क्रॉली जैसे युवा खिलाड़ी पर काफी दवाब है इसलिए उन्हें कुछ समय के लिए टीम से बाहर होकर अपने खेल पर काम करना चाहिए। मुझे पूरा यकीन है कि वह एशेज में वापसी करेंगे”

मैं डेविड मलान को एसओएस भेजूंगा और उन्हें तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करवाऊंगा। मुझे लगता है कि वह उच्च श्रेणी के बल्लेबाज हैं। हसीब हामिद को भी सिबली की जगह टीम में शामिल करूंगा। फिलहाल, मैं सिर्फ बल्लेबाजी क्रम में बदलाव देख रहा हूं लेकिन टीम में एक स्पिनर को भी शामिल करने की जरूरत है क्योंकि लॉर्ड्स में मौसम का पूर्वानुमान बेहतर है।

इंग्लिश टीम को मोईन अली को एसओएस भेजने की जरूरत

वॉन ने आगे कहा कि इंग्लैंड को मोईन अली को भी एसओएस भेजने की जरूरत है। उनके हिसाब से दूसरे टेस्ट मैच में जेम्स एंडरसन, स्टुअर्ट ब्रॉड और ओली रॉबिंसन उनके प्रमुख तेज गेंदबाज होंगे। इंग्लैंड को चार तेज गेंदबाजों के साथ नहीं जाना चाहिए। टीम को अंतिम एकादश में एक स्पिनर जरूर रखना चाहिए और इसके लिए मोईन अली को एसओएस भेजने की जरूरत है।