'वर्ल्ड कप वहीं रोक दो...'- भारत-पाक मैच को लेकर बोले ऑस्ट्रेलियाई ऑलराउंडर मिचेल मार्श - क्रिकट्रैकर हिंदी

‘वर्ल्ड कप वहीं रोक दो…’- भारत-पाक मैच को लेकर बोले ऑस्ट्रेलियाई ऑलराउंडर मिचेल मार्श

23 अक्टूबर को खेले गए मैच में भारत ने पाकिस्तान को 4 विकेट से दी मात।

India vs Pakistan (Image Credit- Twitter)
Virat Kohli & Mitchell Marsh (Image Credit- Twitter)

ऑस्ट्रेलिया में जारी टी-20 विश्व कप 2022 में 23 अक्तूबर को कट्टर प्रतिद्वंद्वियों भारत और पाकिस्तान का आमना-सामना हुआ। दोनों टीमों के बीच यह रोमांचक मैच मेलबर्न में खेला गया। जहां भारतीय टीम ने अपनी पारी की आखिरी गेंद पर जीत हासिल की, वहीं इस मैच में क्रिकेट फैंस को और भी कई रोमांचक और अच्छे पल देखने को मिले।

बता दें कि रोहित शर्मा की अगुवाई वाली टीम इंडिया खेल हारने की कगार पर थी, लेकिन विराट कोहली और हार्दिक पांड्या की 113 रनों की साझेदारी ने पाकिस्तान के मुंह से जीत छीन ली। हार्दिक के आउट होने के बाद कोहली ने तब अकेले दम पर टीम इंडिया को जीत की तरफ ले जाना शुरू कर दिया। इस बड़े मुकाबले में विराट ने 53 गेंदों पर 82 रनों की नाबाद पारी खेलकर मेन इन ब्लू को रोमांचक जीत दिलाई।

भारत-पाक के बीच हुए इस रोमांचक और सनसनीखेज मैच की प्रशंसा दुनिया भर में हुई, मैच खत्म होने के बाद सनसनीखेज मुकाबले को न केवल क्रिकेट प्रशंसकों बल्कि क्रिकेट बिरादरी के सदस्यों ने भी सराहा। अब इस पर ऑस्ट्रेलिया के हरफनमौला खिलाड़ी मिचेल मार्श ने श्रीलंका के खिलाफ मैच से पहले हुए प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस मुकाबले की सराहना करते हुए बड़ा बयान दिया है

मिचेल मार्श का बड़ा बयान

ऑस्ट्रेलिया के ऑलराउंडर ने कहा कि. ‘मुझे वास्तव में लगता है कि हमें विश्व कप को वहीं रोक देना चाहिए। अगर यह इससे अच्छा हो जाता है तो हम एक अद्भुद तीन हफ्तों के चरण में हैं। भारत बनाम पाकिस्तान मैच देखने के नजरिए से हमेशा अविश्वसनीय होता है। मैं इस बात की कल्पना नहीं कर सकता कि उस भीड़ में होना और इसका हिस्सा बनना कैसा होगा।’

इसेक अलावा मार्श ने कहा कि, ‘लेकिन हां, अद्भुत। जब आप विराट कोहली के करियर के बारे में सोचते हैं तो उनको 12 महीनों में उदासी से गुजरना पड़ा है। उनके लिए ऐसा करना, वर्ल्ड कप में अपनी छाप छोड़ना और देखने के लिहाज से यह एक अविश्वसनीय पारी थी। एक अविश्वसनीय मैच। उम्मीद करता हूं आगे भी हमें ऐसे मुकाबले देखने को मिले।’