टेस्ट करियर के तीसरे तिहरे शतक से चूकने पर वीरेंद्र सहवाग ने मुथैया मुरलीधरन से ये कहा था - क्रिकट्रैकर हिंदी

टेस्ट करियर के तीसरे तिहरे शतक से चूकने पर वीरेंद्र सहवाग ने मुथैया मुरलीधरन से ये कहा था

वीरेंद्र सहवाग ने अपने टेस्ट करियर में दो तिहरे शतक लगाए हैं।

Virender Sehwag and Rahul Dravid. (Photo by Morne de Klerk/Getty Images)
Virender Sehwag and Rahul Dravid. (Photo by Morne de Klerk/Getty Images)

पूर्व भारतीय क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग टेस्ट इतिहास के सबसे बेहतरीन ओपनरों में से एक रहे हैं और अपने करियर के दौरान वो गेंदबाजों के लिए सिर दर्द बने हुए रहते थे। पूर्व दिग्गज स्पिनर मुथैया मुरलीधरन ने वीरेंद्र सहवाग द्वारा खेली गई श्रीलंका के खिलाफ एक पारी को याद करते हुए कहा कि एक बार जब सहवाग 293 रनों पर आउट हो गए तो उसके लिए उन्होंने राहुल द्रविड़ को जिम्मेदार ठहराया था। यह टेस्ट मैच 2009 में भारत और श्रीलंका के बीच खेला गया था जहां सहवाग अपने तीसरे तिहरे शतक के बेहद करीब आकर 293 रन बनाकर आउट हो गए थे।

राहुल द्रविड़ ने सहवाग को तिहरे शतक के लिए रोका: मुरलीधरन

मुरलीधरन ने इस रोचक घटना के बारे में बताते हुए कहा कि वीरेंद्र सहवाग अपना तीसरा तिहरा शतक बनाने के लिए जल्दी में थे जिसके बाद राहुल द्रविड़ ने उन्हें समझाया और उन्हें आराम से खेलने के लिए कहा और फिर खेल खत्म होने तक सहवाग नाबाद होकर पवेलियन लौटे थे। इसके बाद जब सहवाग अगले दिन बल्लेबाजी करने के लिए आए तो वो कैच आउट हो गए।

ईएसपीएन क्रिकइंफो से बातचीत के दौरान मुथैया मुरलीधरन ने कहा कि, मुझे अभी भी याद है कि वो 290 रन बनाकर खेल रहे थे और मुझे लगता है कि द्रविड़ ने उन्हें उस दिन रोका और अगले दिन अपना शतक पूरा करने के लिए कहा जिसके बाद अगले दिन वो कैच आउट हो गए। सहवाग ने उसके बाद मुझसे कहा कि मुझे द्रविड़ की बात नहीं सुननी चाहिए थी।

इसके बाद मुरलीधरन ने कहा कि “वीरेंद्र सहवाग जानता था कि मैं कैसी गेंदबाजी करता हूं और वो बाकी बल्लेबाजों के मुकाबले मुझे अलग तरीके से खेलता था। मैं इससे पहले भी कई बार कह चुका हूं कि वो बेहद खतरनाक बल्लेबाज था।” 

टेस्ट इतिहास के सबसे सफल गेंदबाज हैं मुरलीधरन

मुथैया मुरलीधरन टेस्ट इतिहास के सबसे सफल गेंदबाज माने जाते हैं। मुरलीधरन ने 133 टेस्ट मैचों में सर्वाधिक 800 विकेट हासिल किए हैं। वहीं, 350 वनडे मैचों में मुरलीधरन ने 534 विकेट अपने नाम किए। टेस्ट, वनडे और टी-20 मिलाकर मुरलीधरन के पास 1347 अंतरराष्ट्रीय विकेट हैं।