टेस्ट क्रिकेट को लेकर रवि शास्त्री के हालिया सुझाव पर आर अश्विन ने जताई असहमति - क्रिकट्रैकर हिंदी

टेस्ट क्रिकेट को लेकर रवि शास्त्री के हालिया सुझाव पर आर अश्विन ने जताई असहमति

अश्विन ने बताया कैसे टेस्ट क्रिकेट और टी-20 क्रिकेट आपस में जुड़े हुए है।

R Ashwin and Ravi Shastri (Image Source: Twitter)
R Ashwin and Ravi Shastri (Image Source: Twitter)

अनुभवी भारतीय ऑफ-स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने टेस्ट क्रिकेट को केवल शीर्ष देशों तक सीमित रखने के रवि शास्त्री के सुझाव पर असहमति जाहिर की है। उन्होंने कहा अफगानिस्तान और आयरलैंड जैसी टीमों को टेस्ट क्रिकेट खेलने से वंचित करना अनुचित होगा।

आपको बता दें, रवि शास्त्री ने हाल ही में सुझाव दिया कि मैचों की गुणवत्ता बढ़ाने और उन्हें दर्शकों के लिए अधिक दिलचस्प बनाने के लिए टेस्ट क्रिकेट को केवल शीर्ष देशों तक ही सीमित रखा जाना चाहिए।

रविचंद्रन अश्विन ने आगे पूर्व भारतीय मुख्य कोच के सुझाव का खंडन करते हुए बताया कि टेस्ट क्रिकेट और टी-20 क्रिकेट का आपस में संबंध है, और अगर प्रथम-श्रेणी क्रिकेट के स्ट्रक्चर में कोई ढील आती है, तो दुनिया को न केवल बेहतरीन टी-20 क्रिकेटर, बल्कि टेस्ट क्रिकेट भी नहीं मिल पाएंगे।

टेस्ट क्रिकेट खेल का आधार है: अश्विन

आर अश्विन ने अपने यूट्यूब चैनल पर कहा: “रवि भाई ने हाल ही में कहा था कि टेस्ट क्रिकेट को एक ऐसा प्रारूप बनाया जाना चाहिए जहां केवल 3-4 देश ही खेलें। लेकिन अगर ऐसा हुआ, तो आयरलैंड और अफगानिस्तान जैसी टीमों को टेस्ट क्रिकेट खेलने का मौका नहीं मिलेगा। आप मुझसे पूछ सकते हैं कि टेस्ट क्रिकेट और टी-20 क्रिकेट का आपस में क्या संबंध है, तो आप जब टेस्ट क्रिकेट खेलेंगे, तभी तो आपका प्रथम-श्रेणी क्रिकेट का ढांचा बेहतर होगा। जब आपके प्रथम-श्रेणी क्रिकेट का स्ट्रक्चर अच्छा होगा, तभी तो खिलाड़ियों को ज्यादा मौके मिल पाएंगे। मेरा मानना है कि प्रथम-श्रेणी क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ी अपने खेल को टी-20 क्रिकेट के हिसाब से ढालने में सक्षम होते हैं। आप ये चीज शीर्ष तीन मजबूत टेस्ट खेलने वाले देशों में नोटिस कर सकते हैं।

इन देशों में प्रथम-श्रेणी क्रिकेट का ढांचा अत्यंत मजबूत है। कुछ लोग सवालों के साथ सुझाव दे रहे हैं कि क्या भारत के प्रथम-श्रेणी ढांचे में और सुधार किया जा सकता है क्योंकि नवदीप सैनी और वाशिंगटन सुंदर ने काउंटी क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन किया है। इसी तरह, क्या विदेशी खिलाड़ियों को रणजी ट्रॉफी में खेलने का मौका मिल सकता है? अब सवाल खड़ा होता है कि आप प्रथम श्रेणी क्रिकेट को कैसे मजबूत करेंगे? तो उसके लिए आपके देश में टेस्ट क्रिकेट का अधिक महत्व होना चाहिए। यदि आपके देश में टेस्ट क्रिकेट को अधिक महत्व नहीं दिया जाता है, तो खिलाड़ी इस प्रारूप को पूरी दिलचस्पी से नहीं खेलेंगे। मैं इस समय वेस्टइंडीज में हूं और यहां हम देख सकते हैं कि प्रथम-श्रेणी क्रिकेट लगभग खत्म हो गया है, क्योंकि यहां कई सारे टी-20 टूर्नामेंट हैं।