'कप्तानी की वजह से अपनी बल्लेबाजी से ध्यान न हटाए रोहित'- पूर्व खिलाड़ी सबा करीम का बड़ा बयान - क्रिकट्रैकर हिंदी

‘कप्तानी की वजह से अपनी बल्लेबाजी से ध्यान न हटाए रोहित’- पूर्व खिलाड़ी सबा करीम का बड़ा बयान

सबा करीम के मुताबिक कप्तानी रोहित के लिए केवल एक अतिरिक्त जिम्मेदारी है।

Rohit Sharma and Saba Karim (Photo Source: Getty)
Rohit Sharma and Saba Karim (Photo Source: Getty)

भारतीय कप्तान रोहित शर्मा श्रीलंकाई टीम के खिलाफ तीन मैचों की T20I सीरीज के दौरान 3 पारियों में कुल 50 रन ही बना सके। इस दौरान शर्मा का औसत 16.67 का था और वह इस सीरीज में बल्ले के साथ सर्वश्रेष्ठ फॉर्म में नहीं थे। इस बीच पूर्व भारतीय क्रिकेटर सबा करीम ने रोहित की बल्लेबाजी को लेकर बहुत बड़ा बयान दिया है।

सबा करीम ने कहा है कि शर्मा अपनी बल्लेबाजी के कारण टीम में हैं। उसमें कप्तानी को जोड़ना केवल एक अतिरिक्त जिम्मेदारी है, करीम ने कहा कि ‘हिटमैन’ मुख्य रूप से अपनी बल्लेबाजी के कारण ही प्लेइंग इलेवन में है। और कप्तानी की वजह से उन्हें अपनी बल्लेबाजी से ध्यान नहीं हटाना चाहिए।

रोहित शर्मा के लिए अभी कप्तानी का शुरूआती दौर है- सबा करीम

खेलनीति पॉडकास्ट में बात करते हुए उन्होंने कहा कि, “रोहित शर्मा अपनी बल्लेबाजी की वजह से प्लेइंग इलेवन में हैं। कप्तानी एक अतिरिक्त जिम्मेदारी है। उन्हें बल्लेबाजी के मामले में अपना ध्यान नहीं खोना चाहिए। कई बार हमने देखा है कि कप्तान अपने प्राथमिक कौशल में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाते हैं। ऐसा नहीं होना चाहिए।”

सबा करीम ने यह भी कहा कि रोहित शर्मा भारतीय कप्तान के रूप में अभी शुरुआत कर रहे हैं और उन्हें एहसास होगा कि बल्ले से उनका योगदान उनकी टीम के लिए कितना महत्वपूर्ण है। यह कहते हुए कि 2022 टी-20 विश्व कप के दौरान रोहित का प्रदर्शन भारतीय टीम के लिए महत्वपूर्ण होगा, करीम ने यह निष्कर्ष निकाला कि ‘हिटमैन’ को अपने बल्लेबाजी कौशल में सुधार लाने की जरूरत है।

टीम इंडिया के पूर्व चयनकर्ता ने कहा कि, “रोहित शर्मा के लिए अभी कप्तानी का शुरूआती दौर है। उन्हें धीरे-धीरे एहसास होगा कि टीम के लिए उनके रन कितने महत्वपूर्ण हैं। उनका प्रदर्शन ऑस्ट्रेलिया में (टी 20 विश्व कप के दौरान) महत्वपूर्ण होगा, जहां मैदान बड़े हैं और सामने वाली टीम के पास हाई क्वालिटी वाले गेंदबाज हैं। ऐसे में रोहित शर्मा को इस क्षेत्र में काम करने की जरूरत है।”