दीप्ति शर्मा-चार्लोट डीन रन आउट बहस पर बोले तबरेज शम्सी- 'नियम है, दोनों पक्षों को निष्पक्ष खेल खेलने की जरूरत है' - क्रिकट्रैकर हिंदी

दीप्ति शर्मा-चार्लोट डीन रन आउट बहस पर बोले तबरेज शम्सी- ‘नियम है, दोनों पक्षों को निष्पक्ष खेल खेलने की जरूरत है’

तबरेज शम्सी ने हाल ही में लॉर्ड्स क्रिकेट स्टेडियम में भारत महिला और इंग्लैंड महिला के बीच खेले गए तीसरे वनडे मैच के दौरान दीप्ति शर्मा द्वारा चार्लोट डीन के रन आउट पर अपना रिएक्शन दिया।

    Tabraiz Shamsi. (Photo by Gareth Copley-ICC/ICC via Getty Images)Tabraiz Shamsi. (Photo by Gareth Copley-ICC/ICC via Getty Images)

दक्षिण अफ्रीका के अनुभवी स्पिनर तबरेज शम्सी ने हाल ही में लॉर्ड्स क्रिकेट स्टेडियम में भारत महिला और इंग्लैंड महिला के बीच खेले गए तीसरे वनडे मैच के दौरान दीप्ति शर्मा द्वारा चार्लोट डीन के रन आउट पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। बाएं हाथ के स्पिनर का मानना है कि रन आउट के बारे में कोई बहस नहीं होनी चाहिए क्योंकि नियम बल्लेबाजों और गेंदबाजों दोनों के लिए समान है और नियम यही है कि आप अपने पैरों को लाइन के पीछे रखें।

मैच की बात करें तो इंग्लैंड को जीत के लिए 17 रन की दरकार थी वहीं भारत को मात्र एक विकेट और लेना था। भारत की ओर से दीप्ति शर्मा गेंदबाजी कर रही थी और जैसे ही वो गेंद फेंकने जा रही थी उन्होंने देखा कि डीन नॉन स्ट्राइकर एंड पर क्रीज से आगे चली गई है। उन्होंने बिल्कुल भी समय बर्बाद नहीं किया और तुरंत इंग्लिश खिलाड़ी को रन आउट कर दिया। यह फैसला टीवी अंपायर के पास गया और उन्होंने भी डीन को आउट करार दिया।

तबरेज शम्सी ने प्रेस कांफ्रेंस में कही बात

भारत के खिलाफ तीन मुकाबलों की टी-20 सीरीज से पहले तबरेज़ शम्सी ने कहा कि, ‘इस बारे में मेरे विचार काफी सार्वजनिक है। मेरे हिसाब से यह पहले ही साफ कर दिया गया है कि गेंदबाज और बल्लेबाज दोनों को अपने पैर क्रीज के अंदर रखने चाहिए। इस बारे में कोई विवाद नहीं है, नियम है और दोनों पक्षों को निष्पक्ष खेल खेलने की जरूरत है।

भारत बनाम दक्षिण अफ्रीका टी-20 सीरीज की बात की जाए तो पहला मैच 28 सितंबर को खेला जाएगा। पिछली सीरीज भले ही शम्सी की अच्छी ना गई हो लेकिन आगामी सीरीज के लिए वो पूरी तरह से तैयार हैं।

शम्सी ने आगे कहा कि, ‘मुझे नहीं लगता कुछ ज्यादा फर्क हुआ है। कुछ गेंदें थी जो मैंने अच्छी तरह से नहीं फेंकी लेकिन उसको लेकर मैं ज्यादा नहीं सोच रहा हूं। किसी भी खिलाड़ी के लिए कुछ दिन अच्छे नहीं होते हैं और कुछ दिन वो शानदार प्रदर्शन करते हैं। टी-20 प्रारूप में हमें दोनों ही चीजें देखने को मिलती है।’