जोहान्सबर्ग टेस्ट में अफ्रीकी बल्लेबाज रीस वैन डर डुसेन को आउट देने के फैसले को लेकर अब खड़ा हो रहा बड़ा विवाद - क्रिकट्रैकर हिंदी

जोहान्सबर्ग टेस्ट में अफ्रीकी बल्लेबाज रीस वैन डर डुसेन को आउट देने के फैसले को लेकर अब खड़ा हो रहा बड़ा विवाद

सामने के कैमरे से रिप्ले देखने पर ऐसा लग रहा है कि गेंद पंत के दस्तानों में जाने से पहले बाउंस हुई है।

Rishabh Pant. (Photo Source: Disney+Hotstar)
Rishabh Pant. (Photo Source: Disney+Hotstar)

साउथ अफ्रीका और भारत के बीच में 3 मैचों की टेस्ट सीरीज का दूसरा मैच इस समय जोहान्सबर्ग के वांडरर्स स्टेडियम में खेला जा रहा है। इस टेस्ट मैच के पहले दिन के खेल के दौरान कुल 11 विकेट गिरे थे, जिसमें सभी तेज गेंदबाजों के खाते में गए। वहीं दूसरे दिन के खेल में भी कुछ ऐसा ही देखने को मिल रहा है, जिसमें भारत की तरफ से शार्दुल ठाकुर ने अपने टेस्ट करियर में पहली बार एक पारी में 5 विकेट हासिल किए।

दूसरे दिन के खेल के दौरान अंपायरों की तरफ से एक विवादित फैसला भी देखने को मिला। जब शार्दुल ठाकुर की गेंद पर रीस वैन डर डुसेन के बल्ले का अंदरूनी किनारा लेकर विकेटकीपर रिषभ पंत के दस्तानों में गेंद गई। दरअसल उस समय 1 रन के निजी स्कोर पर खेल रहे डुसेन के कैच को जब रिप्ले में देखा गया तो ऐसा लगा कि गेंद पंत के दस्तानों में जाने से पहले बाउंस हुई।

उस समय साउथ अफ्रीकी टीम का स्कोर 102 रन था लेकि अंपायरों ने अपने फैसले में बदलाव नहीं किया जिससे टीम को चौथा झटका लंच से ठीक पहले लग गया। हालांकि शुरुआती समय पर देखने पर साफतौर पर ऐसा लगा कि गेंद आसानी से दस्तानों में गई है। लेकिन रिप्ले के बाद पूरी कहानी ही बदलती हुई नजर आई।

शार्दुल ठाकुर ने रीस वैन डर डुसेन को शॉर्ट लेंथ की गेंद फेंकी थी, जो स्विंग होकर अचानक अंदर की तरफ आई और बल्ले का अंदरूनी किनारा लेकर पीछे चली गई। जिसमें विकेटकीपर पंत ने आगे की तरफ छलांग लगाते हुए कैच को लपका। जिसके बाद अंपायर मरे इरास्मस ने अपनी उंगली उठाने में अधिक समय भी नहीं लगाया।

वहीं क्रिकबज्ज के अनुसार डुसेन के आउट होने के बाद लंच के समय अफ्रीकी कप्तान डीन एल्गर और टीम मैनेजर खोमोत्सो मासुबेलेले ने अंपायर से इस फैसले को लेकर बात की। लेकिन बाद में कॉमेंटेटर मार्क निकोलस ने बताया कि तीसरे अंपायर ने इस फैसले को पलटने के लिए अनिर्णायक साक्ष्य ना होने की वजह से पलटने से मना कर दिया।

तीसरे अंपायर ने फैसले को पलटने से मना किया

मार्क निकोलस ने दूसरे सत्र के दौरान कॉमेंटेटरी के दौरान कहा कि, लंच ब्रेक के दौरान हमें यह पता चला कि यदि कोई ऐसा साक्ष्य होता जिससे फैसला पलटा जा सके तो अंपायर फील्डिंग कप्तान को इसके लिए अनुरोध करते। जिसमें तीसरे अंपायर को अपने फैसले के दौरान उस साक्ष्य को लेकर पुष्टि करनी थी। लेकिन ऐसा कुछी देखने को नहीं मिला।

बता दें कि जब इस फैसले के बाद सामने के कैमरे से रिप्ले को देखा गया तो ऐसा लग रहा है कि गेंद पंत के दस्तानों में जाने से पहले मैदान पर बाउंस की है। हालांकि साइड के कैमरों से ऐसा कुछ भी देखने को नहीं मिला और उसमें गेंद सीधे दस्तानों में जा रही है।