रोहित शर्मा कैसे बने टेस्ट में इतने सफल बल्लेबाज, सचिन ने बताई इसकी सबसे बड़ी वजह - क्रिकट्रैकर हिंदी

रोहित शर्मा कैसे बने टेस्ट में इतने सफल बल्लेबाज, सचिन ने बताई इसकी सबसे बड़ी वजह

रोहित शर्मा जानते हैें कि कैसे औ कब गेंदबाजों पर आक्रमण करना है- रोहित शर्मा

Rohit Sharma and Sachin Tendulkar.
Rohit Sharma and Sachin Tendulkar.

महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने विशेष रूप से टेस्ट क्रिकेट में मजबूत मानसिक दिखाने के लिए रोहित शर्मा की सराहना की है। 34 वर्षीय शर्मा ने 2013 में पदार्पण किया था, लेकिन टेस्ट प्रारूप में अपने पैर जमाने में छह साल लग गए। हालांकि भारत में उनका टेस्ट रिकॉर्ड बेहद शानदार रहा है, लेकिन विदेशी परिस्थितियों में वह अपने प्रदर्शन से सबको खुश नहीं कर पाए।

2019 में, रोहित को टेस्ट में भी सलामी बल्लेबाज के रूप में मौका दिया और वहां से, टेस्ट क्रिकेट में उनकी किस्मत बेहतर हुई। हाल ही में, रोहित को अजिंक्य रहाणे की जगह भारतीय टेस्ट टीम का उप-कप्तान भी नियुक्त किया गया था। हालांकि, हैमस्ट्रिंग की चोट के कारण बाहर होने के बाद अनुभवी रोहित दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट सीरीज से बाहर हो गए हैं।

रोहित शर्मा की तारीफ में सचिन तेंदुलकर ने दिया बड़ा बयान

तेंदुलकर, जिन्होंने रोहित के पदार्पण के दौरान अपनी आखिरी अंतरराष्ट्रीय सीरीज खेली थी, उन्होंने कहा कि दाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने अपनी मानसिक शक्ति पर काफी काम किया है। मास्टर ब्लास्टर ने अपने दृष्टिकोण में बहुत सकारात्मकता दिखाने और गेंदबाजों को उनके ऊपर हावी नहीं होने देने के लिए शर्मा की प्रशंसा की।

बोरिया मजूमदार के टॉक शो में सचिन तेंदुलकर ने कहा कि, “यह मानसिक है, जब आप अपने आप से यह कहना शुरू करते हैं कि यह कुछ ऐसा है जो मैं नहीं करने वाला यह होगा, मैं बहुत अधिक कहूंगा कि कोशिश करें और अपने आप से पूछें कि आपको क्या करने की उम्मीद है और आप क्या करना चाहते हैं, बजाय इसके कि आपको क्या नहीं करना चाहिए।”

रोहित शर्मा को हाल ही में, विराट कोहली की जगह एकदिवसीय और टी-20 टीम का भारतीय कप्तान भी नियुक्त किया गया है । 43 टेस्ट में रोहित ने 46.87 की औसत और 55.47 के स्ट्राइक रेट से आठ शतक और 14 अर्धशतक के साथ 3047 रन बनाए हैं। रोहित IPL के इतिहास में सबसे सफल कप्तान भी हैं, उन्होंने 2013 से मुंबई इंडियंस को अपनी कप्तानी में पांच खिताब दिलाए हैं।