क्विंटन डी कॉक पर भड़के सलमान बट, कहा- खिलाड़ियों ने अचानक संन्यास लेने के फैसले को नाटक बना लिया है - क्रिकट्रैकर हिंदी

क्विंटन डी कॉक पर भड़के सलमान बट, कहा- खिलाड़ियों ने अचानक संन्यास लेने के फैसले को नाटक बना लिया है

भारत के खिलाफ पहले टेस्ट में मिली हार के कुछ घंटों के बाद ही डी कॉक के संन्यास लेने की खबर ने सभी को हैरत में डाल दिया।

Salman Butt and Quinton de Kock. (Photo Source: Getty Images)
Salman Butt and Quinton de Kock. (Photo Source: Getty Images)

बॉक्सिंग डे टेस्ट में भारत द्वारा दक्षिण अफ्रीका को 113 रनों से हराने के ठीक बाद, दक्षिण अफ्रीका के विकेटकीपर क्विंटन डी कॉक ने टेस्ट क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की। इससे पहले यह पुष्टि की गई थी कि डी कॉक अगले दो टेस्ट मैचों के लिए उपलब्ध नहीं होंगे क्योंकि वह और उनकी पत्नी उस अवधि के दौरान एक बच्चे की उम्मीद कर रहे हैं।

क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका ने डी कॉक के संन्यास पर एक बयान जारी किया जहां उन्होंने अपने बढ़ते परिवार के साथ अधिक समय बिताने के लिए संन्यास का ऐलान किया है। डी कॉक ने 2014 में पोर्ट एलिजाबेथ में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया और अपने देश के लिए 54 टेस्ट मैच खेले।

टेस्ट क्रिकेट में उन्होंने 38.82 की औसत से 3300 रन बनाए, जिसमें छह शतक और 22 अर्धशतक शामिल हैं। इसके साथ ही डी कॉक ने अपनी टीम के लिए बतौर विकेटकीपर 221 कैच लपके और 11 स्टंपिंग भी की है। इस बीच पाकिस्तान के पूर्व कप्तान सलमान बट ने डी कॉक के इस फैसले पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।

डी कॉक के अचानक संन्यास लेने के फैसले पर सलमान बट ने क्या कहा ?

अपने आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर बातचीत करते हुए सलमान बट ने कहा कि, “क्विंटन डी कॉक पिछले डेढ़ साल से अजीब क्रिकेट खेल रहे थे। वह कप्तान के रूप में पाकिस्तान आए लेकिन बाद में वह उस भूमिका में नहीं रहे। अब एक टेस्ट खेलने के बाद उन्होंने अपने (टेस्ट) संन्यास की घोषणा की है। इस तरह की चीजें टीम के संतुलन, चयन नीति को बिगाड़ती हैं और कप्तान की मानसिकता को प्रभावित करती हैं।”

उन्होंने आगे कहा कि, “खिलाड़ियों ने अचानक संन्यास लेने के फैसले को नाटक बना लिया है। जब आप लगभग 2 महीने तक विदेशी लीग खेलते हैं तो क्या आप परिवार के बारे में नहीं सोचते हैं? ऐसा क्यों है कि केवल टेस्ट क्रिकेट ही आड़े आता है? आप दक्षिण अफ्रीका में अपने ही देश में क्रिकेट खेल रहे हैं। रुचि की यह कमी लीग क्रिकेट से जुड़ी है।”