विराट कोहली के T20I क्रिकेट में भारत की नई अप्रोच को अपनाने को लेकर संजय मांजरेकर ने दी अपनी राय - क्रिकट्रैकर हिंदी

विराट कोहली के T20I क्रिकेट में भारत की नई अप्रोच को अपनाने को लेकर संजय मांजरेकर ने दी अपनी राय

संजय मांजरेकर केएल राहुल को विराट कोहली से ज्यादा आक्रामक बल्लेबाज बता रहे हैं!

Virat Kohli And Sanjay Manjrekar (Image Credit- Getty Images)

पूर्व भारतीय क्रिकेटर और क्रिकेट पंडित संजय मांजरेकर ने आगामी एशिया कप 2022 से पहले टीम इंडिया की नई बल्लेबाजी अप्रोच अपनाने के लिए विराट कोहली की सराहना की है। पूर्व भारतीय बल्लेबाज  का मानना है कि इंग्लैंड के खिलाफ T20I सीरीज के दौरान भारत की आक्रामक बल्लेबाजी शैली को अपनाने के प्रयास के लिए दाएं-हाथ के बल्लेबाज की प्रशंसा की जानी चाहिए, भले ही वह रन नहीं बना पाए।

आपको बता दें, विराट कोहली काफी T20I मैचों से चूक गए हैं, पहले उन्हें दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ घरेलू सीरीज के दौरान आराम दिया गया और फिर उन्हें वेस्टइंडीज के खिलाफ पूरी सीमित ओवरों की सीरीज के लिए भी आराम दें दिया गया। वह जिम्बाब्वे के खिलाफ आगामी तीन मैचों की वनडे सीरीज का भी हिस्सा नहीं है।

संजय मांजरेकर ने की विराट कोहली की तारीफ

हालांकि, पूर्व भारतीय कप्तान आगामी एशिया कप 2022 के लिए भारतीय क्रिकेट टीम में लौट आए हैं, और कमेंटेटर ने कहा कि प्रशंसकों को जश्न मनाना चाहिए क्योंकि कोहली, केएल राहुल और रोहित शर्मा एक बार फिर बल्लेबाजी क्रम की अगुवाई करेंगे। एशिया कप 2022 का आगाज संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में 27 अगस्त से हो रहा है।

संजय मांजरेकर ने स्पोर्ट्स 18 को बताया: “प्रशंसकों को जश्न मनाना चाहिए क्योंकि भारतीय बल्लेबाजी लाइन-अप की क्लास वापस आ गई है। इंग्लैंड में टी-20 सीरीज के दौरान विराट कोहली के लिए भारत की नई आक्रामक अप्रोच का अनुभव नया रहा है, इसलिए उन्हें बड़ी सफलता नहीं मिली, लेकिन उन्होंने इस अप्रोच को काफी हद तक अपना लिया है। इसके लिए आपको विराट कोहली को श्रेय देना होगा।”

क्रिकेट पंडित ने आगे कहा: “विराट को इस बात की परवाह नहीं थी कि वह रन बना रहा है या आउट हो रहा है, क्योंकि उसे इंग्लैंड में रनों की सख्त जरूरत थी और वह अंतरराष्ट्रीय रनों की तलाश में था। लेकिन फिर भी उसने भारतीय टीम की नई अप्रोच का समर्थन किया, और उसके अनुसार खेलने की कोशिश की। वह पहली गेंद से ही बाउंड्री लगाने की कोशिश कर रहे थे। लेकिन दुर्भाग्य से ज्यादा रन नहीं मिले, लेकिन अच्छी कोशिश थी। मेरा मानना है कि राहुल के लिए कोहली की तुलना में भारत की आक्रामक बल्लेबाजी तकनीक को अपनाना आसान होगा।”