ये एक सपने जैसा है विराट कोहली जैसे खिलाड़ियों के साथ खेलना : सरफराज खान - क्रिकट्रैकर हिंदी

ये एक सपने जैसा है विराट कोहली जैसे खिलाड़ियों के साथ खेलना : सरफराज खान

Sarfraz Khan
Sarfraz Khan. (Photo Source: Twitter)

इंडियन प्रीमियर लीग के लिए अभी से देश में काफी गहमागहमी देखी जा सकती है और ऐसा हो भी क्यों ना आखिर ये इंडिया के त्यौहार के रूप में देखा जाता है जिसमे दुनिया भर के खिलाड़ी भारत में अपने खेल का जलवा दिखाने आते है और इस दो महीने चलने वाले टूर्नामेंट में कई युवा भारतीय खिलाड़ियों को बड़े मंच पर खेलने का मौका मिलता है जिसके लिए उन्हें शायद काफी लम्बे वक्त का इंतज़ार करना पड़े और इसी में एक नाम सरफराज खान का आता है.

आरसीबी ने रिटेन कर सभी को चौंकाया

आईपीएल के लिए सभी टीमों को अपने रिटेन करने वाले खिलाड़ियों के नाम 4 जनवरी तक बताने थे जिसके बाद रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने जिन तीन खिलाड़ियों को शामिल किया उसमे उन्होंने कप्तान विराट कोहली, एबी डिविलियर्स और तीसरे खिलाड़ी के रूप में उन्होंने युवा खिलाड़ी सरफराज खान को चुना जिसके बाद सभी को इस निर्णय से काफी अचम्भा लगा क्योंकी टीम के पास क्रिस गेल और यजुवेंद्र चहल जैसे खिलाड़ी भी मौजूद थे लेकिन उन्होंने सरफराज को चुना.

पिछला सीजन चोट के कारण नहीं खेल सके

आरसीबी की टीम ने सरफराज को 3 करोड़ रूपये अपने पर्स से खर्च करके रिटेन किया जिसमे सरफराज को 1.75 करोड़ रुपये मिलेंगे. सरफराज आईपीएल का पिछला सीजन चोट के कारण नहीं खेल सके थे जिसके बाद आरसीबी टीम मैनेजर लगातार उनके संपर्क में बने रहे.

मैं बयाँ नहीं कर सकता अपनी खुशी

सरफराज खान ने आरसीबी की टीम से रिटेन किये जाने की अपनी इस खुशी को क्रिकट्रैकर से फोन पर बातचीत के दौरान व्यक्त करते हुए कहा कि “मैं इसे शब्दों में बयाँ नहीं कर सकता कि इस समय मैं कैसा महसूस कर रहा हूँ आरसीबी मेरे दिल के बेहद करीब है एक परिवार की तरह. आरसीबी की टीम ने मेरी इंजुरी का पूरा खर्चा उठाया था यहाँ तक की सर्जरी का भी मुझे बेहद खुशी है कि उन्होंने मुझे रिटेन किया.”

इस पारी के कारण रिटेन किये गयें

सरफराज को अंडर 19 टीम के कोच राहुल द्रविड़ ने एक अपने अनुभव और एक मैच अंडर 19 टीम के खिलाफ खेलने के लिए बंगलौर बुलाया था जिसमे सरफराज ने शानदार बल्लेबाजी की थी जिस पर इस युवा खिलाड़ी ने कहा कि “राहुल द्रविड़ सर ने मुझे फोन करके एक मैच अंडर 19 टीम के खिलाफ खेलने के लिए बंगलौर बुलाया था जिसमे मैंने अच्छी बल्लेबाजी की थी जिसके बाद मुझे लगता है कि उसी पारी के कारण आरसीबी की टीम ने मुझे रिटेन किया है.”

एक सपने जैसा है

आरसीबी की टीम में विराट कोहली, एबी डिविलियर्स और क्रिस गेल जैसे खिलाड़ियों के बीच इतनी कम उम्र में खेलने के अपने अनुभव के बारे में सरफराज ने बताया कि “विराट कोहली भाई, एबी डिविलियर्स और क्रिस गेल जैसे खिलाड़ियों के बीच में खेलना एक सपने जैसा है क्योंकी ये वे लोग है जिन्हें हम टीवी पर देखते है पूरे साल और मैं उनके साथ खेल रहा हूँ और जब वे आपकी बल्लेबाजी को पसंद करने के साथ तारीफ़ करते है तो बेहद ही अच्छा लगता है.”

प्रेक्टिस मैच के दौरान हुए थे चोटिल

आईपीएल 2017 की तैयारी कर रहे सरफराज खान एक अभ्यास मैच के दौरान अपने घुटने को चोटिल कर बैठे थे जिसके बाद उन्हें पूरे सीजन के लिए टीम से बाहर बैठना पड़ा था जिस पर सरफराज ने अपनीं इस बातचीत में कहा कि “मैंने अपनी पूरी जिंदगी आजाद मैदान में अभ्यास किया और कभी मुझे एक चोट तक नहीं लगी लेकिन यहाँ चिन्नास्वामी स्टेडियम में मै चोटिल हो गया जो एक अलग चीज़ है लेकिन ऐसा होता है और आप जानते है ऐसा हो सकता है.”

गेल के कारण हूँ सोशल मीडिया पर

इस समय जहाँ सभी क्रिकेट खिलाड़ी सोशल मीडिया पर अपने फैन्स से जुड़े रहते है,वहीँ सरफराज खान ने इससे दुरी बना रखी है और सिर्फ इन्स्टाग्राम का उपयोग करते है जिस पर सरफराज ने कहा कि “मैं किसी भी सोशल मीडिया प्लेटफार्म का उपयोग नहीं करता था लेकिन क्रिस गेल मुझे इन्स्टाग्राम पर लेकर आयें जिस कारण मैं उसका उपयोग करता हूँ लेकिन जब समय आता है तभी.”

एक पिता का सपना

सरफराज खान के पिता नौशाद खान भी एक क्लब क्रिकेट खिलाड़ी थे जिसके बाद उनका सपना है कि उनका बेटा क्रिकेट को देश में सबसे उच्चें स्तर तक खेल कर आये. काफी शुरू से सरफराज के पिता उन्हें ट्रेनिग दे रहे है. पिता सरफराज को मैच से पहले पूरा अभ्यास कराते है, ताकि उनका बीटा मैच से पहले पूरी तरह से तैयार हो सके.

इसलिए सरफराज हमेशा इस बात को कहते है, कि आज वे जो कुछ भी है वह अपने “अब्बू” की वजह से है. यहाँ तक की जब डॉक्टर ने उन्हें चोट के कारण चार महीने तक क्रिकेट से दूर रहने के लिए कहा था तो सरफराज के पिता ने उनके हाथ में कुछ ही दिनों के बाद बैट पकड़ा दिया था क्योंकी उनके पिता ये नहीं चाहते थे कि सरफराज अपनी पकड बल्ले पर कमजोर पड़ने दे.

मैं लेफ्टी हूँ की राईटी

सरफराज ने अपनीं इस बातचीत के दौरान अपने बचपन का एक वाक्या शेयर करते हुए बताया कि “मेरे पिता ये पता करना चाहते थे कि मैं लेफ्टी हूँ या राईटी तो उनके एक दोस्त ने उन्हें एक सलाह दी कि वे एक कैंडी मेरे सामने रख डे और देखे कि मैं किस हाथ से उठाता हूँ तो जब उन्होंने जब मेरे लेफ्ट साइड पर उसे रखा तो मैंने अपने लेफ्ट हाथ से उसे उठाया और जब दोनों ने उसे बीच में रखा तो मैंने अपने दोनों हाथ से उसे उठा लिया” और सरफराज ये कहते हुए हस पड़े. सरफराज को इस बात के बारे में उनके पिता ने बताया था.